अमेरिका में ब्रिटेन के राजदूत किम डारोक का इस्तीफा, पूर्व राजनायिकों ने बताया निर्दोष

विदेशी मीडिया में ब्रिटेन के राजदूत का इस्तीफा सुर्खियां बना

News18Hindi
Updated: July 11, 2019, 2:56 PM IST
अमेरिका में ब्रिटेन के राजदूत किम डारोक का इस्तीफा, पूर्व राजनायिकों ने बताया निर्दोष
विदेशी मीडिया में ब्रिटेन के राजदूत का इस्तीफा सुर्खियां बना
News18Hindi
Updated: July 11, 2019, 2:56 PM IST
ब्रिटेन के चर्चित अखबार और वेबसाइट द गार्जियन ने अमेरिका में ब्रिटेन के राजदूत किम डारोक के इस्तीफे की खबर को हेडलाइंस बनाया है. द गार्जियन लिखता है कि पूर्व राजनायिकों की नज़र में डारोक ने वही कहा जो उन्होंने महसूस किया और उनके इस्तीफे का अंतर्राष्ट्रीय कूटनीति पर प्रभाव पड़ सकता है.

द गार्जियन के मुताबिक पूर्व राजनायिकों का कहना है कि डारोक के जिस ईमेल के लीक होने पर इतना बवाल हुआ वो किसी भी राजनायिक के काम का हिस्सा है. द गार्जियन की रिपोर्ट के मुताबिक पूर्व राजनायिक सर क्रिस्टोफर मेयर का मानना है कि अमेरिकी राष्ट्रपति की प्रतिशोधपूर्ण प्रतिक्रिया और ई-मेल के अपमानजनक लीक होने की वजह से किम डारोक को पद छोड़ना पड़ा है और पूरे दुखद प्रकरण में सर किम निर्दोष हैं. पूर्व राजनायिकों का कहना है कि सर किम डारोक ने वही कहा जो देखा और वही राय दी जो उन्हें सही लगी और ये सब उन्होंने गोपनीय दस्तावेजों के जरिए किया.



दरअसल, डारोक का राजनयिक केबल लीक हुआ था जिसमें उन्होंने ट्रंप प्रशासन को अयोग्य और अकुशल बताया था. इसके बाद राष्ट्रपति ट्रंप ने गुस्सा जताते हुए कहा था कि वो किम डारोक से कोई नाता नहीं रहेंगे. तभी अमेरिका-ब्रिटेन के बिगड़ते संबंधों में सुधार लाने की कोशिश में ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे कोशिश कर रही थीं और उसी कवायद में डारोक का इस्तीफा सामने आया है.

साथ ही वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से टीम इंडिया को मिली हार को द गार्जियन ने खबरों में प्रमुखता से प्रकाशित किया. द गार्जियन लिखता है कि टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली वर्ल्ड कप में मैच के फॉर्मेट से संतुष्ट नहीं दिखाई दिए.

अमेरिकी मीडिया समेत तमाम विदेशी अखबारों में उल्कापिंड पर जापानी अंतरिक्ष यान के उतरने की खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया है. न्यूयॉर्क टाइम्स लिखता है कि जापान का अंतरिक्ष यान हायाबूसा-02 रिगुयू उल्का पिंड पर विस्फोट के बाद उतरा है जो कि उल्का पिंड की सतह से नमूने इकट्ठे करेगा. इसी साल अप्रैल में रिगुयू उल्का पिंड पर उतरने के बाद विस्फोट किया था. विस्फोट के बाद की मिट्टी के नमूनों को इकट्ठा कर वैज्ञानिक सौर मंडल की उत्पत्ति और सृष्टि का पता लगाना चाहते हैं. हायाबुसा 02 लगातार रिसर्च कर रहा है जिसकी जापान की अंतरिक्ष एजेंसी जाक्सा ने जानकारी दी है. ये रिगुयू उल्का पिंड धरती से तीन सौ मिलियन किलोमीटर की दूरी पर है और जापानी यान साल 2020 के अंत तक धरती पर वापस लौटेगा.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...