नॉर्थ कोरिया ने बना ली सबसे बड़ी न्यूक्लियर मिसाइल, चंद पल में पूरा न्‍यूयॉर्क कर सकती है खत्‍म

प्योंगयांग के किम इल सुंग स्क्वायर में सैन्‍य परेड में ह्वासोंग -16 अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल प्रदर्शित की गई...
प्योंगयांग के किम इल सुंग स्क्वायर में सैन्‍य परेड में ह्वासोंग -16 अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल प्रदर्शित की गई...

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 15, 2020, 2:06 PM IST
  • Share this:
उत्तर कोरिया (North Korea) के सुप्रीम लीडर किम जोंग उन (Kim Jong Un) हाल ही में हुई मिलिट्री परेड में अपने देश के लोगों से सार्वजनिक रूप से माफी मांगते हुए रो पड़े. इस दुर्लभ घटना ने दुनियाभर का ध्‍यान अपनी ओर खींचा है, जिस वजह से किम जोंग उन फ‍िर से चर्चा में हैं. लेकिन साथ ही चर्चा का विषय एक और भी है, जिस पर दुनियाभर की पहली बार नज़र गई और वो है नॉर्थ कोरिया द्वारा बनाई गई ह्वासोंग -16 अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (Hwasong-16 intercontinental ballistic missile). यह मिसाइल दुनिया की सबसे बड़ी बैलिस्टिक मिसाइल (World’s Largest Ballistic Missile) बताई जा रही है. विशेषज्ञों का मानना है कि यह दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल परमाणु मिसाइल है, जो चंद पलों में किसी भी बड़े अमेरिकी शहर का सफाया कर सकती है और कई लाख लोगों को चंद सेकंड में मौत के घाट उतार सकती है.

यह मिसाइल पूरा न्‍यूयॉर्क शहर कर सकती है तबाह
NUKEMAP के अनुसार, अगर किम जोंग-उन (Kim Jong Un) ने इसके जरिये न्यूयॉर्क शहर को निशाना बनाया, तो 6.4 मिलियन से अधिक लोग तुरंत मारे जाएंगे या घायल होंगे. वहीं, आने वाले हफ्तों में विकिरण बीमारी से कई और अधिक लोग इसके गंभीर शिकार होंगे.

इसे मार गिराना मुश्किल होगा
विशेषज्ञों का मानना है कि इस "मॉन्स्टर" अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (ICBM) का पता लगाना और इसे नष्ट करना मुश्किल होगा. यहां तक की यह मिसाइल रोधी सुरक्षा को नाकाम करने के लिए डिकॉय फायर करने में सक्षम है. विशेषज्ञों का कहना है कि यह दुनिया में कहीं भी सबसे बड़ी रोड-मोबाइल, तरल-ईंधन मिसाइल हैं.



राजधानी प्योंगयांग में सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी के 75 वें स्‍थापना दिवस के दौरान किम जोंग उन के सामने ह्वासोंग -16 बैलिस्टिक मिसाइल की परेड हुई यानि उसे प्रदर्शित किया गया, जिसे 11 एक्सल के साथ समान रूप से विशाल प्रक्षेपण यान पर ले जाया गया.



अमेरिका के लिए खतरा और बढ़ा- विशेषज्ञ
ओपन न्यूक्लियर नेटवर्क के विश्लेषक शू तियानरान कहते हैं यह मिसाइल डीपीआरके की पिछली आईसीबीएम से बड़ी थी. यह परियोजना अमेरिका के लिए खतरे के स्तर को और बढ़ा देगा.

उत्तर कोरियाई विश्लेषकों के अनुसार, यह हथियार पूर्व की मिसाइलों के मुकाबले से बहुत बड़ा था, जिसमें ह्वासोंग -15 शामिल थी, जिसे माना जाता था कि यह अमेरिका के वेस्ट कोस्ट तक पहुंचने में सक्षम थी. उनका यहां तक कहना है कि "नई मिसाइल को सही मायने में दुनिया के सबसे बड़े मोबाइल आईसीबीएम के रूप में चित्रित किया गया है."

यह अमेरिकी पेसमेकर की तुलना में पांच मीटर बड़ी है
हथियार के आकार की बात करें तो यह किसी 26 मीटर ऊंची है, जोकि रूस की सतन मिसाइल के बाद दूसरे स्थान पर है और अमेरिकी पेसमेकर की तुलना में पांच मीटर बड़ी है.

ऐसा माना जाता है कि यह कई वारहेड ले जाने में सक्षम है और अनुमान है कि यह 2,000 मेगाटन से अधिक का दबाव पैदा करती है जोकि किसी भी शहर को कुछ ही सेकंड में नष्ट कर सकता है.

सोवियत मिसाइलों की तुलना में अधिक सक्षम है नॉर्थ कोरिया की नई मिसाइल
अंतरराष्‍ट्रीय अध्ययन संस्थान में परमाणु अप्रसार और परमाणु नीति के निदेशक माइकल एलेमैन का अनुमान है कि "यह नई बड़ी मिसाइल संभावित रूप से 2,000-3,500 किलोग्राम वजन सहित अमेरिकी क्षेत्र के किसी भी बिंदु तक पहुंच सकती है, जोकि इसे सोवियत मिसाइलों की तुलना में अधिक सक्षम बनाता है."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज