किम जोंग उन ने किया वादा, कहा- उ. कोरिया में पांच साल में आएगी महत्वपूर्ण तब्दीली

उत्तर कोरिया का सुप्रीम लीडर किम जोंग उन
उत्तर कोरिया का सुप्रीम लीडर किम जोंग उन

त्तर कोरिया (North Korea) के सबसे कम उम्र के तानाशाह किम जोंग उन ने कहा कि पिछले पांच सालों के अंदर उत्तर कोरिया के लोगों के जीवन में महत्वपूर्ण तब्दीली (Drastic Chnage) आ जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 10, 2020, 7:56 AM IST
  • Share this:
प्योंगयांग. उत्तर कोरिया (North Korea) के सबसे कम उम्र के तानाशाह किम जोंग उन (Kim Jong Un) ने सात मई 2016 को एक विशाल रैली को संबोधित किया था. इस रैली में करी 2.5 करोड़ लोग शामिल हए थे. उन्होंने यहां एक बहुत दुस्साहस भरा वादा किया. उन्होंने कहा कि पिछले पांच सालों के अंदर उत्तर कोरिया के लोगों के जीवन में महत्वपूर्ण तब्दीली (Drastic Chnage) आ जाएगी. 32 साल के किम ने कहा कि उत्तर कोरिया दुनिया के सबसे सभ्य समाजवादी देश बन जाएगा. किम ने आमसभा को संबोधित करते हुए कहा कि देश की परिस्थितियां शानदार होंगी और यहां लोग बेहतर पर्यावरण और धन, धान्य से भरपूर सभ्यता को जीवन का आनंद उठाएंगे. हालांकि यह लक्ष्य लगभग असंभव सा है.

उत्तर कोरिया कभी दुनिया के गरीब देशों में से एक था

उत्तर कोरिया कभी दुनिया के एक गरीबतम देशों में से एक था और यहां एक परमाणु हथियार कार्यकर्म को बढ़ावा देने के चलते यहां अंतरराष्ट्रीय रूप से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आर्थिक प्रतिबंध लगाया गया. किम अपने पिता के अधीन काम करने वाले दर्जनों अधिकारियों को दुरुस्त करने के बाद आत्मविश्वास से लबरेज दिखाई दिए. किम के नेतृत्व के तहत नेताओं का एक नया समूह चीजों को बदल सकता है. किम ने 2016 में एक बड़े सम्मेलन में अपना आर्थिक दृष्टिकोण रखा लेकिन 1980 के बाद से कोरिया कांग्रेस की पहली वर्कर्स पार्टी को एक अस्पष्ट पांच साल के अलावा किसी का भी 20वीं सदी में समर्थन नहीं मिला. किम ने अपना उद्देश्य पूरा करने के लिए कोई विशेष बदलाव नहीं किए और ना ही अपनी किसी पॉलिसी में कोई बड़ा बदलाव किया है.



आज कोरिया कम्युनिस्ट पार्टी की है 75वीं वर्षगांठ
आज 10 अक्टूबर को कोरिया की कम्युनिस्ट पार्टी की 75वीं वर्षगांठ है और यह देश में जब से शासन कर रही है तब से कोई खास बदलाव लेकर नहीं आई है. अब किम अपने सबसे महत्वपूर्ण राष्ट्रीय दिनों में से एक के साथ अपने देश की आर्थिक सफलता का जश्न मना सकते थे. यह कोरियाई इतिहास में किम के सबसे महत्वपूर्ण नेताओं और स्वतंत्रता सेनानियों में से एक के रूप में, या कम से कम उत्तर कोरिया के संस्करण के रूप में चित्रित करने का एक सुनहरा प्रचार अवसर होगा. लेकिन पिछले कुछ सालों में किम को उम्मीद नहीं थी, और 2020 के अगस्त के मध्य तक, उन्होंने स्वीकार किया कि वे उनकी योजना विफल हो गई थी.

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान में लगे नारे, प्रधानमंत्री आपने रोजगार देने का किया था वादा, छीनने का नहीं

US: चोरी कर eBay पर सामान बेचती थी बुढ़िया, भारी जुर्माने के साथ हुई जेल


उत्तर कोरिया की राज्य समाचार एजेंसी केसीएनए द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, किम ने "कोरियाई प्रायद्वीप के आसपास के क्षेत्र में विभिन्न पहलुओं और परिस्थितियों में अप्रत्याशित और अपरिहार्य चुनौतियों को जिम्मेदार ठहराया." राज्य मीडिया ने यह नहीं बताया कि कौन सी चुनौतियाँ हैं, लेकिन वे प्रतिबंधों को शामिल करने की संभावना रखते हैं. कोरोनोवायरस महामारी और हाल के दिनों में गिरावट और बाढ़ के चलते वे प्रतिबंधों को लागू कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज