शिंजो आबे के बाद अब जापान में कौन बनेगा पीएम? ये 3 नाम हैं सबसे आगे

शिंजो आबे के बाद अब जापान में कौन बनेगा पीएम? ये 3 नाम हैं सबसे आगे
जापान के पीएम शिंजो आबे के इस्तीफे के बाद ये तीन पीएम बनने की रेस में सबसे आगे हैं.

Shinzo abe resignation: जापान (Japan) में शिंजो आबे (shinzo abe) के स्वास्थ्य कारणों से इस्तीफे के बाद से ही नए प्रधानमंत्री को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ गयी हैं. आबे के बाद फुमियो किशिदा, योशीहिदे सुगा और शिगेरु इशिबा प्रधानमंत्री बनने की रेस में फिलहाल सबसे आगे चल रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2020, 8:50 AM IST
  • Share this:
टोक्यो. जापान (Japan) के सबसे लंबे समय तक प्रधानमंत्री रहने वाले शिंजो आबे (Shinzo abe) ने पेट की बीमारी से मजबूर होकर अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. शिंजो आबे के अचानक इस्तीफे से देश में राजनीतिक शून्यता आ गई है. पीएम पद पर उनका कार्यकाल सितंबर 2021 तक था. आबे के इस्‍तीफे के बाद से जापान के नए प्रधानमंत्री बनने के लिए रेस शुरू हो गई है. इस रेस में जापान के मुख्य कैबिनेट सचिव योशीहिदे सुगा भी शामिल हो गए हैं.

हालांकि प्रधानमंत्री बनने के लिए किसी भी नेता को पहले सत्तारूढ़ लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी (एलडीपी) का अध्यक्ष बनना होगा. माना जा रहा है कि 15 सितंबर को चुनाव कराए जा सकते हैं. पीएम के पद तक पहुंचने के लिए किसी भी नेता को पहले सत्तारूढ़ लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी (एलडीपी) का अध्यक्ष बनना होगा और उसके बाद संसद में वोटिंग के जरिये नए प्रधानमंत्री का चुनाव होगा. आबे और उनका मंत्रिमंडल तब तक सरकार चलाते रहेंगे, जब तक कि नया प्रधानमंत्री नहीं चुना जाता. सितंबर 2021 तक एलडीपी सत्ता में रहेगी, क्योंकि पार्टी को निचले सदन में बहुमत प्राप्त है. प्रधानमंत्री पद की रेस में फिलहाल ये तीन नाम सबसे आगे हैं-

शिगेरु इशिबा
पूर्व रक्षा मंत्री शिगेरु इशिबा का नाम प्रधानमंत्री की रेस में सबसे आगे बताया जा रहा है. इशिबा ने साल 2012 में पार्टी अध्यक्ष पद के चुनाव के पहले दौर में शिंजो आबे को हरा दिया था, जिसमें ग्रासरूट पर वोटिंग होती है, लेकिन सिर्फ सांसदों की वोटिंग वाले दूसरे दौर में वो हार गए थे. यही नहीं, साल 2018 में भी इशिबा को आबे के हाथों करारी हार झेलनी पड़ी थी. इशिबा मीडिया के सर्वे में सबसे आगे चल रहे हैं. हालांकि उनकी अपनी ही पार्टी में स्वीकार्यता कम है.
फुमियो किशिदा


एलडीपी के नीति प्रमुख और पूर्व विदेश मंत्री फुमियो किशिदा ने भी चुनाव लड़ने के संकेत दिए है. आबे के मंत्रिमंडल में किशिदा साल 2012 से 2017 तक जापान के विदेश मंत्री रह चुके हैं. किशिदा जापान के हिरोशिमा से आते हैं और आबे के उत्तराधिकारी के तौर पर भी देखे जाते हैं. हालांकि इशिबा के सामने उनका कद काफी कम मन जाता है.

योशीहिदे सुगा
सरकार के प्रमुख प्रवक्ता योशीहिदे सुगा ने एलडीपी महासचिव तोशीरो निकाई को पार्टी के नेतृत्व के लिए चुनाव लड़ने की इच्छा के बारे में बताया गया है. पार्टी के कुछ वरिष्ठ सदस्यों ने संकट प्रबंधन क्षमताओं के लिए सुगा की सराहना भी की है. योशिहिदे सुगा को प्रधानमंत्री के सबसे करीबी सहयोगियों में से एक माना जाता है. 2012 में शिंजो आबे के सत्ता संभालने के बाद से सरकार के शीर्ष प्रवक्ता के रूप में सेवा कर रहे हैं.

स्वास्थ्य कारणों से दिया इस्तीफा
बीते शुक्रवार को लगातार बिगड़ रही अपनी स्वास्थ्य स्थिति के कारण जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने पद से इस्तीफा दे दिया था. 65 साल के आबे लंबे समय से पेट से जुड़ी बीमारी से जूझ रहे हैं. इस दौरान उन्‍हें कई बार हॉस्पिटल में भर्ती कराना पड़ा. शिंजो आबे अपने कार्यालय में 8 साल पूरे किए और वह जापान के सबसे ज्‍यादा समय तक रहने वाले प्रधानमंत्री बन गए थे. इससे पहले यह रिकॉर्ड उनके चाचा इसाकु सैतो के नाम था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज