• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • PAK ने चली नई चाल, जासूसी के बाद अब जाधव पर आतंकवाद के मामले में चला रहा मुकदमा

PAK ने चली नई चाल, जासूसी के बाद अब जाधव पर आतंकवाद के मामले में चला रहा मुकदमा

पाकिस्तान के अखबार 'डॉन' के मुताबिक, कुलभूषण जाधव के खिलाफ अब नए सिरे से मुकदमा चलाया जा रहा है.

पाकिस्तान के अखबार 'डॉन' के मुताबिक, कुलभूषण जाधव के खिलाफ अब नए सिरे से मुकदमा चलाया जा रहा है.

पाकिस्तान का यह भी आरोप है कि जाधव मामले में 13 अन्‍य अधिकारी भी शामिल थे, जो उन्‍हें निर्देश दे रहे थे.

  • Share this:
    पाकिस्तान की जेल में बंद नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव के मामले में वहां की सरकार पर नया पैंतरा आज़मा रही है. पाकिस्तान के अखबार 'डॉन' के मुताबिक, कुलभूषण जाधव के खिलाफ अब नए सिरे से मुकदमा चलाया जा रहा है. रिपोर्ट के मुताबिक, कथित जासूसी के मामले में सज़ा सुनाए जाने के बाद अब पाकिस्तान जाधव के खिलाफ आतंकवाद और विध्वंसकारी (Sabotage) गतिविधियों के आरोप में मुकदमा चला रहा है.

    मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान का यह भी आरोप है कि जाधव मामले में 13 अन्‍य अधिकारी भी शामिल थे, जो उन्‍हें निर्देश दे रहे थे. पाकिस्‍तान का कहना है कि उसने भारत से इन अधिकारियों तक पहुंच की मांग की है. हालांकि, भारत ने इससे इनकार कर दिया है.

    पाकिस्‍तानी न्यूज़पेपर 'डॉन' की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, एक अधिकारी ने बताया कि जाधव के खिलाफ कई मामले हैं, जिनमें से आतंकवाद और विध्‍वंसकारी गतिविधियों से संबंधित आरोप भी हैं. इन मामलों की सुनवाई चल रही है. जबकि जासूसी से संबंधित मामले की सुनवाई पूरी हो चुकी है.


    मार्च 2016 से पाक की जेल में है जाधव
    पाकिस्‍तान का दावा है कि उसने कुलभूषण जाधव को 3 मार्च, 2016 को बलूचिस्तान प्रांत से जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया. पाकिस्तान का कहना है कि बलूचिस्तान में जाधव हुसैन मुबारक पटेल के रूप में रह रहा था और जासूसी गतिविधियों में लिप्त था. वहीं, भारत ने पाकिस्तान के सारे दावों को खारिज किया है. भारत ने जाधव को नौसेना का पूर्व अधिकारी बताया है. भारत सरकार के मुताबिक, जाधव सेना से रिटायर होने के बाद अपने कारोबार के सिलसिले में ईरान में थे. वहीं से पाकिस्‍तान ने उन्‍हें अगवा किया.

    अंतरराष्ट्रीय अदालत में है मामला
    कुलभूषण जाधव का मामला नीदरलैंड के हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय अदालत में है. पिछले साल अप्रैल में पाकिस्तान द्वारा जाधव को जासूसी के मामले में दोषी ठहराए जाने के बाद उसे फांसी की सजा दी गई थी. भारत ने पाक सरकार के इस फैसले के खिलाफ उसी साल मई में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) का रुख किया था.

    ICJ ने सुनवाई पूरी होने तक फांसी पर लगाई रोक
    अंतरराष्ट्रीय अदालत की 10 सदस्यीय बेंच ने 18 मई, 2017 को पाकिस्‍तान को तब तक जाधव को फांसी नहीं देने का निर्देश दिया, जब तक कि वह इस मामले में सुनवाई पूरी नहीं कर लेता. अंतरराष्ट्रीय अदालत ने इस मामले में भारत को अपना पक्ष रखने के लिए 17 अप्रैल और पाकिस्‍तान को अपनी दलीलें पेश करने के लिए 17 जुलाई का समय दिया है.

    जाधव की मां और पत्नी से हुई थी बदसलूकी
    बता दें कि 10 दिसंबर को जाधव की मां और पत्नी ने पाकिस्तान की जेल में उनसे मुलाकात की थी. इस दौरान पाकिस्तानी अधिकारियों द्वारा जाधव की मां और बीवी के साथ बदसलूकी का मामला सामने आया था. पाकिस्‍तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव से मिलने पहुंचीं उनकी पत्‍नी और मां के जूते और आभूषण सुरक्षा कारणों से उतरवा लिए गए थे, जिसके बाद भारत में हंगामा मच गया. इस पर पाकिस्तान ने दावा किया था कि, जब भारतीय कैदी कुलभूषण जाधव की पत्नी विदेश कार्यालय पहुंचीं तो उनकी जूतियों में ‘धातु की वस्तु’ पाई गई. इसलिए जूते भी उतरवा लिए गए.

    ये भी पढ़ें:  कांगो में  भड़की घातक जातीय हिंसा में 23 सदस्यों की हत्या

    हाफिज सईद की पाकिस्तान सरकार को खुली चुनौती, कहा- 'हिम्मत है तो आओ गिरफ्तार करो'

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज