कुर्द ने दमिश्क के साथ समझौते का किया ऐलान, अब तुर्की सीमा पर तैनात होंगे सीरियाई सैनिक

उत्तरी सीरिया के कुर्दिश प्रशासन ने सीरियाई सैनिकों की तैनाती को लेकर समझौते का ऐलान किया
उत्तरी सीरिया के कुर्दिश प्रशासन ने सीरियाई सैनिकों की तैनाती को लेकर समझौते का ऐलान किया

कुर्द प्रशासन (Kurds Administration) ने तुर्की से लगती उत्तरी सीरिया में सीरियाई सैनिकों की तैनाती को लेकर सीरिया सरकार से समझौते का ऐलान किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 14, 2019, 11:42 AM IST
  • Share this:
बेरूत. उत्तर सीरिया (North Syria) में कुर्द प्रशासन (Kurds Administration) ने तुर्की (Turkey) से लगी सीमा के पास सीरियाई सैनिकों की तैनाती को लेकर सरकार से समझौता किया है. कुर्दिश प्रशासन ने रविवार को दमिश्क सरकार के साथ समझौते का ऐलान किया है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कुर्दों ने अंकारा की ओर से पैदा होने वाले खतरों से निपटने के लिए यह समझौता किया गया है.

कुर्द प्रशासन ने फेसबुक पर एक बयान में कहा, ‘इन खतरों का सामना करने और उनसे निपटने के लिए, सीरियाई सरकार के साथ एक समझौता किया गया है... ताकि सीरियाई-तुर्की सीमा पर कुर्द नेतृत्व वाले ‘सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्सेस’ (SDF) की मदद के लिए सीरियाई सेना को तैनात किया जा सके. ’हालांकि कुर्द प्रशासन ने इस समझौते के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं दी.

उत्तरी सीरिया में कुर्द प्रशासित क्षेत्रों में तुर्की सेना का एयरस्ट्राइक




सीरिया भेज रहा है अपने सैनिक
सीरियाई समाचार एजेंसी सना ने कहा था कि तुर्की से निपटने के लिए सीरिया अपने सैनिकों को भेज रही है. इसके बाद इस समझौते की घोषणा की गई. गौरतलब है कि रविवार को तुर्की एयरफोर्स ने उत्तरी सीरिया के कुर्द प्रशासित क्षेत्रों में बम्बारी की है. तुर्की के इस हमले में कम से कम 26 नागरिकों की मौत हो गई. सीरियाई मानवाधिकार पर्यवेक्षक ने बताया है कि मरने वालों में से दस लोग हवाई हमले में मारे गए हैं.

बता दें कि अमेरिका ने हाल ही में उत्तरी सीरिया से अपनी फौज हटाने का फैसला किया है. यह इलाका विश्व का सबसे बड़ा कुर्द इलाका है. यहां करीब 30 मिलियन कुर्द रहते हैं. कुर्दों को अमूमन अमेरिका के खास सहयोगी के तौर पर देखा जाता है. अमेरिका के इस कदम से अब तुर्की के लिए कुर्दों पर आक्रमण करना शुरू कर दिया है. तुर्की और कुर्द लड़ाकों के बीच दशकों पुरानी रंजिश है.

तुर्की और कुर्द लड़ाकों के बीच दुस्मनी काफी पुरानी


तुर्की एयरस्ट्राइक पर भारत ने जाहिर की चिंता
वहीं भारत ने कुर्द प्रशासित उत्तरी सीरिया में तुर्की एयरस्ट्राइक पर अपनी चिंता जाहिर की है. भारतीय विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा है कि  तुर्की के एकतरफा सैन्य हमले से क्षेत्र में स्थिरता और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के लिए खतरा उत्पन्न हो सकता है. साथ ही भारत ने सीरिया की क्षेत्रीय अखंडता व संप्रभुता का सम्मान करे और संयम बरतने की तुर्की से अपील किया है.
(भाषा इनपुट के साथ)

ये भी पढ़ें:

FATF में यूं ही पाकिस्तान की मदद नहीं कर रहे चीन-मलेशिया और तुर्की, ये है वजह

दुनिया को सिनेमा देने वाले जोसेफ प्लेटू को गूगल ने डूडल पर किया याद
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज