Home /News /world /

लेबनान हादसे में सदियों पुराना चर्च भी हुआ था तबाह, अब होगा यहां क्रिसमस का आयोजन

लेबनान हादसे में सदियों पुराना चर्च भी हुआ था तबाह, अब होगा यहां क्रिसमस का आयोजन

बेरुत में क्रिसमस के आयोजन की तैयारी चल रही है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

बेरुत में क्रिसमस के आयोजन की तैयारी चल रही है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Christmas Festivals in Centuray Old Church: लेबनान के सबसे बड़े शहर बेरुत के कारान्तिना इलाके के सदियों पुराने चर्च में फेस्टिवल के आयोजन की तैयारियां चल रही हैं. दरअसल, बेरुत में अगस्त महीने में हुए जोरदार धमाके में सेंट मैरी मैरोनाइट चर्च भी पूरी तरह क्षत-विक्षत हो चुका था. इस चर्च के पुर्ननिर्माण का जिम्मा लेबनानी एनजीओ ने लिया है.

अधिक पढ़ें ...
    बेरुत. लेबनान (Lebanon) की राजधानी में विस्फोट (Beirut Blast) से तबाही के करीब चार महीने से कुछ ज्यादा समय बीतने के क्रम में क्रिसमस (Christmas Festival) से ठीक पहले एक अच्छी खबर आई है. देश के सबसे बड़े शहर बेरुत के कारान्तिना इलाके के सदियों पुराने चर्च में फेस्टिवल के आयोजन की तैयारियां चल रही हैं. दरअसल, बेरुत में अगस्त महीने में हुए जोरदार धमाके में सेंट मैरी मैरोनाइट चर्च भी पूरी तरह क्षत-विक्षत हो चुका था. इस चर्च के पुर्ननिर्माण का जिम्मा लेबनानी एनजीओ ने लिया है.

    अगस्त में बेरुत धमाके से हुआ था भारी नुकसान

    बेरुत के बंदरगाह में 4 अगस्त को हुए धमाके में 200 से ज्यादा लोग मारे गए थे जबकि इसमें हजारों लोग घायल हो गए थे. इस हादसे में बहुत बड़ी आबादी बेघर भी हो गई थी. बेरुत धमाके में $15 बिलियन यानि 11,10,04,50,00,000 रुपये के जानमाल का नुकसान उठाना पड़ा.

    चर्च को सजाने की है ऐसी योजना...

    चर्च के पुर्ननिर्माण टीम का नेतृत्व कर रहे लेबनान के आर्किटेक्ट निकोल सेफायर ने कहा कि चर्च को दोबारा से उसी अवस्था में खड़ा करने का लक्ष्य हमारे सामने है और यह प्राचीन महानिदेशालय के मानकों के आधार पर पूरा करने की कोशिश होगी. उन्होंने कहा कि चर्च की दीवारें रेतीले चट्टानों से बनाई जाएंगी और छत को लकड़ी के बारीक काम से सजाई जाएगी. वहीं चर्च की खिड़कियों में विक्टोरियाई लकड़ी का इस्तेमाल किया जाएगा. चर्च के बाकी हिस्सों पर सफेद रंग लगाई जाएंगी जिसका मकसद इस जगह की आध्यात्मिकता और पवित्रता को प्रकट करना होगा. लेबनान का यह चर्च इससे पहले भी टूट-फूट का शिकार हो चुका है. यह विरासत रेतीले चट्टानों से बनाया गया है जो देश में 15 साल तक चले गृहयुद्ध के दौरान कई बार टूट-फूट चुका है.



    ये भी पढ़ें: इस्लामिक देश सीरिया में अफवाह: कोरोना टीका लगाने से हो जाएंगे बांझ, हो जाएगी मौत

    जर्मनी और फिनलैंड ने IS लड़ाकों की पत्नियों और बच्चों की घर वापसी कराई

    चर्च के पास से गुजरते हुए 50 वर्ष के नागरिक और दुकानदार ओल्गा हर रोज चर्च के पुर्ननिर्माण के कार्यों का सर्वेक्षण करती हैं. उन्होंने कहा कि यह चर्च मेरे दूसरे घर जैसा है. मैं इस स्ट्रीट में पिछले 35 साल से रह रही हूं और यहां सप्ताह में दो बार सामूहिक प्रार्थना के लिए आती हूं. क्या हमें चर्च की धार्मिकता ने धमाकों से नहीं बचा लिया? चर्च नहीं होता तो हम सभी मारे जाते?

    Tags: Blast, Christmas 2020, Lebanon

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर