लाइव टीवी

सात साल पहले मां की मौत, कोराना वायरस ने छीन लिया पिता, भूख-प्यास से लड़के ने भी तोड़ा दम

News18Hindi
Updated: February 4, 2020, 3:38 PM IST
सात साल पहले मां की मौत, कोराना वायरस ने छीन लिया पिता, भूख-प्यास से लड़के ने भी तोड़ा दम
17 साल का येन शेंग सेरिब्रल पैल्सी बीमारी से पीड़ित था.

17 साल का येन शेंग सेरिब्रल पैल्सी बीमारी से पीड़ित था और बचपन से ही व्हील चेयर पर था. शारीरिक रूप से अक्षम होने के कारण उसके रोजमर्रा के सारे काम पिता यान शियोवेन ही करते थे. कुछ दिन पहले ही पिता को कोरोना वायरस (Coronavirus) हो गया, जिसके बाद उन्हें बेटे से अलग कर दिया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 4, 2020, 3:38 PM IST
  • Share this:
बीजिंग. चीन में जानलेवा कोरोना वायरस (Coronavirus) का प्रकोप फैला हुआ है. इस वायरस की चपेट में आने से सोमवार तक 425 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, 20,438 से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हैं. संक्रमित लोगों को अलग निगरानी में रखा गया है, ताकि दूसरों में ये वायरस न आ जाए. इस दौरान हुवेई प्रांत में शारीरिक रूप से अक्षम 17 साल के एक लड़के की मौत हो गई. बताया जा रहा है कि इस लड़के के पिता कोरोना वायरस के संदिग्ध हैं, जिसके बाद उन्हें 22 जनवरी को बेटे से अलग कर डॉक्टरों की निगरानी में भेज दिया गया था.

17 साल का येन शेंग सेरिब्रल पैल्सी बीमारी से पीड़ित था और बचपन से ही व्हील चेयर पर था. शारीरिक रूप से अक्षम होने के कारण उसके रोजमर्रा के सारे काम पिता यान शियोवेन ही करते थे. कुछ दिन पहले ही यान शियोवेन को बुखार आया. डॉक्टरों ने उनके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की आशंका जाहिर की, जिसके बाद उन्हें बेटे से अलग कर दूसरी जगह निगरानी में रखा गया.

पिता से अलग होने के बाद येन घर में अकेला रह गया था. वह बोल नहीं सकता था और चल-फिर भी नहीं पाता था. खाना भी खुद से नहीं खा सकता था. बताया जा रहा है कि येन की मां की भी करीब सात साल पहले मौत हो चुकी है. इसलिए घर में पिता के अलावा और कोई नहीं था, जो उसकी देखभाल कर सके.

यान शियोवेन ने हाल ही में सोशल मीडिया पर अपने बेटे की बीमारी का जिक्र किया था. खुद के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की बात बताते हुए उन्होंने लोगों से अपने बेटे की मदद करने की अपील की थी. हालांकि, इस अपील पर जवाब आने से पहले ही 29 जनवरी को येन की मौत हो गई.

होंगन काउंटी सरकार ने एक बयान में कहा, 'यान शियोवेन को कोरोना वायरस की वजह से अलग रखा गया था. इसलिए वह अपने बेटे की देखभाल नहीं कर पाए... उन्होंने अपने रिश्तेदारों, गांव के लोगों और डॉक्टरों से येन का ध्यान रखने की अपील भी की थी. दुखद है कि येन को बचाया नहीं जा सका.'

कोरोना वायरस: नए मामले सामने आने के बाद भारत सरकार का बड़ा फैसला, चीनी नागरिकों का कैंसिल किया वीजा

कोरोना वायरस : चीन के दो और शहरों में लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 3:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर