मासूम बेटी को लेकर शॉपिंग करने गई थी मां, जिंदगी भर ना भरने वाला मिला जख्म

फोटो सौ. (फेसबुक)
फोटो सौ. (फेसबुक)

वेल्स में एक महिला अपनी छोटी सी बच्ची को प्रैम में लेकर शॉपिंग मॉल (Shopping Mall) गई. लेकिन उसकी एक छोटी सी लापरवाही से बच्ची (Child) की जान चली गई. अब वह कैंपेन चलाकर अस्पतालों को सभी नए जन्मे बच्चों की हार्ट कंडीशन चेक करने के लिए जागरूक कर रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 22, 2020, 9:51 PM IST
  • Share this:
वेल्स. कई बार खुशियां मातम में बदल जाती हैं जैसा कि वेल्स में एक महिला के साथ हुआ. दरअसल, एक महिला अपनी मासूम बेटी को लेकर शॉपिंग (Shopping) करने गई थी, वो बच्ची को प्रैम (बच्चों की झूला गाड़ी) में लेकर शॉपिंग के लिए गई थी, मां शॉपिंग में इतनी व्यस्त थी कि बेटी का ख्याल रखना भूल गई. मासूम बच्ची प्रैम में बेहोश हो गई और फिर कभी नहीं जागी. महिला ने इस दर्दनाक हादसे को शेयर किया है. बात पांच साल पहले की है जब 33 साल की गेम्मा विलियम अपनी तीन महीने की बेटी (Daughter) को लेकर वेल्स के एक शॉपिंग मॉल में शॉपिंग करने गई थीं. गेम्मा ने बच्ची की प्रैम यानी बच्चों का झूला में लेटा रखा था. बच्ची प्रैम में ही बेहोश हो गई. बच्ची को तुरंत अस्पताल में लाया गया, लेकिन डॉक्टर्स उसे बचा नहीं पाए.

बाद में जांच में सामने आया कि वो टोटल एनोसलस पुलमोनरी वीनस ड्रेनेज से पीड़ित थी, जिसे जन्म के बाद डिटेक्ट करने में डॉक्टर नाकाम रहे थे. पांच साल बाद गेम्मा अपनी बच्ची के साथ हुए इस हादसे को याद कर बहुत भावुक हो जाती है. अब को किसी बच्चे के साथ ऐसा ना हो इसलिए, कैंपेन चलाकर अस्पतालों को सभी नए जन्मे बच्चों की हार्ट कंडीशन चेक करने के लिए जागरूक कर रही हैं. गेम्मा विलियम के मुताबिक, वो अपनी 3 महीने की बेटी लेक्सी को लेकर अपने होमटाउन कारमर्थेनशायर में लगी एक सेल में गई थीं, तभी झूलागाड़ी में अचानक उसकी तबियत बिगड़ी और वो बेहोश हो गई. गेम्मा ने बताया, इसके बाद मैं शॉपिंग छोड़कर अपनी कार की तरफ बढ़ने लगी. उसका रिएक्शन पाने के लिए मैं लगातार उसका चेहरा छू रही थी, लेकिन उसकी तरफ से मुझे कोई जवाब नहीं मिला.

ये भी पढ़ें: PHOTOS: ब्रेस्ट सर्जरी कराने के लिए लड़की ने लिया था कर्ज, रातों रात बदल गई किस्मत



'लापरवाही ना बरतें माता-पिता'
बेटी की मौत के पांच साल बाद भी ये कपल उस तकलीफ से उबर नहीं पाया है. गेम्मा और उसके हसबैंड जेसन अब भी कैंपेन चलाकर हॉस्पिटल्स को आगाह कर रहे हैं कि, वो नवजात बच्चों की हार्ट की कंडीशन की पूरी जांच करें और उसमें लापरवाही ना बरतें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज