Home /News /world /

Lockdown : पा‍किस्‍तान की अदालतों में लंबित मामलों की संख्‍या बढ़ने लगी, सिंध हाईकोर्ट में 1760 मामले

Lockdown : पा‍किस्‍तान की अदालतों में लंबित मामलों की संख्‍या बढ़ने लगी, सिंध हाईकोर्ट में 1760 मामले

प्रवर्तन निदेशालय के वकील ने अदालत से कहा कि तलवार पर गंभीर आर्थिक अपराध का आरोप है और अगर उसे जमानत दी जाती है तो वह फरार हो सकता है.

प्रवर्तन निदेशालय के वकील ने अदालत से कहा कि तलवार पर गंभीर आर्थिक अपराध का आरोप है और अगर उसे जमानत दी जाती है तो वह फरार हो सकता है.

घातक महामारी कोरोना वायरस पाकिस्‍तान में नहीं फैली थी, तब सिंध हाई कोर्ट में रोजाना सैकड़ों मामलों की सुनवाई होती थी. वकीलों और सैलानियों की भीड़ इतनी ज्‍यादा होती थी कि हर कोई पार्किंग के बारे में चिंतित रहता था, लेकिन अब सब कुछ बदल गया है.

अधिक पढ़ें ...
    कराची. पाकिस्‍तान में कोरोना वायरस (Corona virus) महामारी की रोकथाम के लिए लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से जहां देश की आर्थिक स्थिति खराब होती जा रही है, वहीं अदालतों में लंबित मामलों की संख्‍या भी बढ़ती जा रही है. वहीं अदालतों में जहां नए मामलों के आने पर पाबंदी लगा दी गई है, केवल जमानत या सजा के खिलाफ अपील दायर की जा रही है.

    'दुनिया न्‍यूज' की खबर के मुताबिक अब से कुछ समय पहले त‍क यानी जबघातक महामारी कोरोना वायरस पाकिस्‍तान में नहीं फैली थी, तब सिंध हाई कोर्ट में रोजाना सैकड़ों मामलों की सुनवाई होती थी. वकीलों और सैलानियों की भीड़ इतनी ज्‍यादा होती थी कि हर कोई पार्किंग के बारे में चिंतित रहता था, लेकिन अब सब कुछ बदल गया है.

    हाई कोर्ट में हर दिन 300 नए मामले दायर किए जाते थे, अब नए मामलों पर रोक
    मुकदमों की सुनवाई सीमित हुई तो 12 मई की त्रासदी, बल्दिया फैक्ट्री हादास, विद्रोह और भड़काऊ भाषण सहित 1760 मामलों को स्थगित कर दिया गया था. हाई कोर्ट में हर दिन लगभग 300 नए मामले दायर किए जाते थे, लेकिन अब नए मामलों पर रोक लगा दी गई है. हां, इतना जरूर है कि जमानत या सजा के खिलाफ कोई भी शख्‍स अपील दायर जरूर कर सकता है.

    वहीं इन हालात में और जमानत की याचिका, सजा के खिलाफ अपील की सुनवाई की वजह से खतरनाक अपराधी भी फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं. गौरतलब है कि पाकिस्‍तान में फरवरी से कोरोना वायरस का संक्रमण फैलना शुरू हुआ और इसके बाद से ही देश के हालात भी बदल गए. कोरोना की रोकथाम के लिए जहां लॉकडाउन लगाया गया, वहीं सरकारी और गैरसरकारी संस्‍थान भी बंद करने पड़े. अदालतें भी इससे बच नहीं पाईं. हालांकि इतनी एहतियात के बावजूद देश में हालात बेहतर नहीं हो रहे. यहां तक कि डब्‍ल्‍यूएचओ ने तो यह तक आशंका जताई कि मई तक देश में कोरोना संक्रमितों की संख्‍या दो लाख तक होगी. यानी अभी पाकिस्‍तान से कोरोना का संकट टला नहीं है.

    ये भी पढ़़े़ें - PAK : लोगों को डराने धमकाने वाला तालिबान 'रेडियो एफएम 98' कोरोना के खिलाफ उतरा

                       पाकिस्तान में कोरोना से भुखमरी के हालत, आलू भी हुए आम आदमी की पहुंच से दूर

                               

    Tags: Corona, High court, Pakistan

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर