Covid-19: यूरोप ने लॉकडाउन करके बचा ली 30 लाख जानें, भारत में बहस जारी

Covid-19: यूरोप ने लॉकडाउन करके बचा ली 30 लाख जानें, भारत में बहस जारी
कोरोना वायरस के चलते यूरोप में 1.80 लाख लोग जान गंवा चुके हैं.

यूरोप (Euorpe) में लॉकडाउन (Lockdown) तब हटाया गया जब वहां कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण घटने लगे थे. भारत (India) में जब लॉकडाउन को अनलॉक किया गया तब यहां संक्रमण तेजी से बढ़ रहे हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत, कोरोना वायरस (Coronavirus) से लड़ाई के बीच लॉकडाउन से अनलॉक-1 की तरफ बढ़ गया है. देश में लॉकडाउन (Lockdown)  की पाबंदियां भले ही हटा ली गई हों, लेकिन कोरोना की रफ्तार घटी नहीं है. ऐसे में यह बहस जारी है कि क्या भारत (India) ने लॉकडाउन हटाने में जल्दबाजी कर दी. यूरोप (Euorpe) में भी लॉकडाउन को लेकर रिसर्च की गई. इसके मुताबिक यूरोप में समय पर लॉकडाउन लगाकर कम से कम 30 लाख जानें बचा ली गईं.

लंदन के इंपीरियल कॉलेज के वैज्ञानिकों ने यूरोप के 11 देशों के लॉकडाउन पर रिसर्च की है. इन देशों में ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, ब्रिटेन, डेनमार्क, फ्रांस, जर्मनी, इटली, नॉर्वे, स्पेन, स्वीडन और स्विट्जरलैंड हैं. वैज्ञानिकों की टीम इस नतीजे पर पहुंची कि लॉकडाउन ने यूरोप में कोविड-19 (Covid-19) से हो सकने वाली करीब 30 लाख मौतें टाल दी हैं. स्‍टडी के मुताबिक लॉकडाउन ने कोरोना के फैलने की दर को काफी कम कर दिया.

मार्च में उठाए प्रभावी कदम
इस रिसर्च में रीप्रोडक्‍शन रेट या आर वैल्‍यू पर जोर दिया गया है. आर वैल्यू में देखा जाता है कि एक संक्रमित व्यक्ति से संक्रमण कितने लोगों में फैल सकता है. एक से अधिक की R वैल्‍यू घातक साबित हो सकती है. इम्पीरियल टीम ने अनुमान लगाया कि मई के शुरू में, 11 देशों में 1.2 से 1.5 करोड़ लोग कोविड-19 से संक्रमित हो सकते थे. लेकिन ऐसा नहीं हुआ क्योंकि यूरोप के ज्यादातर देशों में मार्च में ही प्रभावी कदम उठाए गए थे. इनमें स्‍कूल, दुकानें और यातायात बंद करने जैसे निर्णय थे. इससे मई की शुरुआत में संक्रमण की दर नीचे लाने में मदद मिली.
यह भी पढ़ें  Covid-19: इजरायल के बाद इस देश ने लिया बड़ा रिस्क, स्कूल खोलते ही आए नए केस



... 31 लाख मौतें हो सकती थीं
रिसर्च के मुताबिक यदि इन देशों समेत यूरोप में लॉकडाउन नहीं किया जाता तो इस महाद्वीप में 31 लाख मौतें हो सकती थीं. मौजूदा आंकड़ों के मुताबिक यूरोप में करीब 21 लाख लोगों को कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. इनमें से करीब 1.80 लाख लोगों की मौत हुई है.

53 करोड़ लोगों को संक्रमण से बचाया
अमेरिका (America) में भी एक ऐसी ही स्टडी की गई, जो जर्नल नेचर में प्रकाशित हुई है. इसमें अनुमान लगाया है कि चीन, दक्षिण कोरिया, इटली, ईरान, फ्रांस और अमेरिका में लागू लॉकडाउन ने करीब 53 करोड़ लोगों को कोरोना के संक्रमण से बचा लिया.

Covid-19: जुलाई-अगस्त में क्या बच्चों को स्कूल भेजना आग से खेलना साबित होगा?

भारत ने समय से पहले लगाया लॉकडाउन?
इस बीच भारत में लॉकडाउन पर बहस जारी है. भारत में लॉकडाउन 25 मार्च को लगाया था. अब भारत लॉकडाउन से निकलकर अनलॉक-1 के दौर में आ गया है. इसका सीधा मतलब यह है कि देश के ज्यादातर हिस्सों में लॉकडाउन की पाबंदियां हटा ली गई हैं. यूरोप के तमाम देशों और भारत के लॉकडाउन हटाने में एक फर्क है. यूरोप में लॉकडाउन तब हटाया गया जब वहां कोरोना के संक्रमण घटने लगे थे. भारत में जब लॉकडाउन को अनलॉक किया गया तब यहां संक्रमण तेजी से बढ़ रहे हैं. यह भी कहा जा रहा है कि भारत में समय से पहले ही लॉकडाउन लगा दिया गया था. हालांकि, सरकार का कहना है कि जल्दी लॉकडाउन लगाने से उसे बाकी इंतजाम करने के लिए वक्त मिल गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading