प्रत्यर्पण के खिलाफ अर्जी दायर कर सकता है माल्या, कोर्ट में बोला- भारत सरकार ने लगाए झूठे आरोप

लंदन की अदालत ने भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या की अपील पर सुनवाई करते हुए उसके बड़ी राहत दी है.

News18Hindi
Updated: July 3, 2019, 11:34 AM IST
News18Hindi
Updated: July 3, 2019, 11:34 AM IST
लंदन की अदालत ने भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या की अपील पर सुनवाई करते हुए उसके बड़ी राहत दी है. लंदन के रॉयल्स कोर्ट ऑफ जस्टिस ने माल्या को प्रत्यर्पण के खिलाफ अर्जी दायर करने की अनुमति दे दी है.

राहत के बाद ये बोला माल्या
विजय माल्या ने अदालत में कहा कि मैं खुश हूं कि मैं पहली नज़र में जीता दिख रहा हूं. माल्या ने आगे कहा कि यह दुर्भाग्य की बात है कि भारत में अगर कोई व्यवसाय फेल हो जाता है, तो प्रमोटर पर धोखाधड़ी का आरोप लगाया जाता है. माल्या ने अपनी सफाई में आगे कहा कि भारत सरकार की ओर से मुझ पर झूठे आरोप लगाए गए है जिनका कोई आधार नहीं है.

लंदन में रॉयल कोर्ट ऑफ जस्टिस के प्रशासनिक न्यायालय डिवीजन की दो-न्यायाधीश पीठ ने अप्रैल में दायर अर्जी पर सुनवाई की थी. मामले की सुनवाई के लिए कोर्ट में दाखिल होने से पहले 63 साल के विजय माल्या ने कहा था कि वह पॉज़िटिव महसूस कर रहे हैं.

मामले की सुनवाई के दौरान विजय माल्या के वकील ने कहा कि जो भी डॉक्यूमेंट हैं, उनमें ऐसा कोई सबूत नहीं है. उन्होंने कहा कि बैंकों को माल्या की वित्तीय स्थिति की पूरी जानकारी थी.

ब्रिटेन में रहने के लिए दायर की थी याचिका
बता दें विजय माल्या ने भारत लौटने की जगह कुछ और समय तक ब्रिटेन में रहने के लिए याचिका दायर की थी. भारतीय जांच एजेंसियां लगातार माल्या के प्रत्यर्पण की कोशिश कर रही हैं. अब इस अपील के रद्द होने के बाद उनके पास इंटरनेशनल कोर्ट या अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग जाने का रास्ता हो गया है.
Loading...

बता दें कि विजय माल्या 9,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी और मनी लॉड्रिंग मामले में भारत में वांछित है. माल्या 2016 में भारत से फरार हो गया था. सीबीआई और ईडी विजय माल्या के प्रत्यर्पण की कोशिशों में लगी हुई हैं.

बता दें कि इससे पहले माल्या ने लंदन कोर्ट को बताया था कि अब उसके पास गुजर-बसर करने के लिए पैसे नहीं हैं. माल्या का कहना है कि वह अपनी पार्टनर, पर्सनल असिस्टेंट, परिचित कारोबारियों और बच्चों पर निर्भर है.

अभी कुछ दिन पहले ही प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) अदालत ने विजय माल्या के 1,000 करोड़ रुपये की वैल्यू के शेयर बेचने की मंजूरी दे दी है.

ये भी पढ़ें-
ममता का ऐलान, नौकरियों में सवर्णों को मिलेगा 10 फीसदी आरक्षण
First published: July 2, 2019, 4:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...