कश्मीर पर महातिर मोहम्मद का विवादास्पद बयान, पाकिस्तान के PM ने किया शुक्रिया

कश्मीर पर महातिर मोहम्मद का विवादास्पद बयान, पाकिस्तान के PM ने किया शुक्रिया
फोटो सौ. (ट्विटर)

महातिर मोहम्मद (Mahathir Mohamad) ने कहा कि मुझे नहीं पता है कि इस तरह के अन्याय के खिलाफ बोलने के लिए बड़ी कीमत चुकानी पड़ती है. अब मैं प्रधानमंत्री नहीं हूं. अब मैं कश्मीर मुद्दे (Kashmir Issue) पर बिना किसी बहिष्कार के डर से खुलकर बोल सकता हूं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 8, 2020, 7:57 PM IST
  • Share this:
कुआलालंपुर. कश्मीर मुद्दे पर भारत विरोधी रहे मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद (Mahathir Mohamad) का फिर से एक बयान सामने आया है. शनिवार को कुआलालंपुर में कश्मीर को लेकर आयोजित एक समारोह में उन्होंने अपने पुराने बयान का समर्थन किया. उन्होंने कहा कि मैंने इस मुद्दे पर नुकसान पहुंचने की संभावना के बावजूद बोलने के लिए चुना था. उनके इस गलतबयानी का पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (PM Imran Khan) ने समर्थन किया है और साथ ही उन्हें धन्यवाद भी कहा.

दरअसल, उन्होंने पाकिस्तान द्वारा आयोजित कश्मीर विषय पर एक कार्यक्रम में कहा कि पिछले साल सितंबर में संयुक्त राष्ट्र महासभा में मेरे विवादास्पद मुद्दे पर भाषण के बाद से जो कुछ हुआ, उसने केवल यह साबित करने के लिए काम किया कि जो मैंने कहा था वह हल्का था और एक हद तक संयमित था. उन्होंने आगे कहा कि मैंने जो कुछ भी कहा था उसके लिए मैं माफी नहीं मांगता. हालांकि, मुझे खेद है कि इसने भारत को हमारे पाम तेल निर्यात को प्रभावित किया था.
महातिर ने आगे कहा कि मुझे नहीं पता है कि इस तरह के अन्याय के खिलाफ बोलने के लिए बड़ी कीमत चुकानी पड़ती है. अब मैं प्रधानमंत्री नहीं हूं. अब मैं कश्मीर मुद्दे पर बिना किसी बहिष्कार के डर से खुलकर बोल सकता हूं. मलेशिया के पूर्व पीएम महातिर मोहम्मद के इन आधारहीन बयानों का पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने तारीफ की. उन्होंने कहा कि मैं महातिर मोहम्मद का कश्मीरियों का समर्थन करने और कश्मीर में दमन के खिलाफ बोलने के लिए धन्यवाद देता हूं.

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान की बढ़ी टेंशन, कश्मीर मुद्दे पर OIC भी नहीं दिखा रहा खास रूचि



कश्मीर पर दिए बयान थे तनाव की वजह
महातिर ने एक दिन पहले ही कहा था कि भारत के साथ रिश्तों में तनाव कश्मीर पर मेरी टिप्पणी के कारण हुआ. लेकिन, उसके अलावा संबंध बहुत अच्छे थे, यहां तक कि मेरे नेतृत्व में भी रिश्ते अच्छे थे. दरअसल, सितंबर 2019 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने संबोधन के दौरान महातिर ने कश्मीर का मुद्दा उठाया था. भारत के विदेश मंत्रालय ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज