मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री नजीब रजाक दोषी, 20 साल की हो सकती है जेल!

मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री नजीब रजाक को 15-20 साल जेल की सजा हो सकती है.

मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री नजीब रजाक (Ex. PM Najeeb Razak) को मंगलवार को 1MDB निवेश कोष की अरबों डॉलर के भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाया गया. यह फैसला नई सरकार के सत्ता में आने के पांच महीने बाद आया है.

  • Share this:
    क्वालालंपुर. मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री नजीब रजाक को मंगलवार को 1MDB निवेश कोष की अरबों डॉलर के भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाया गया. यह फैसला नई सरकार के सत्ता में आने के पांच महीने बाद आया है. फरवरी में प्रधानमंत्री मुहीदीन यासिन के नेतृत्व वाले गठबंधन में नजीब की पार्टी भी सत्ता में लौटी थी. इस मामले में नजीब के दोषी पाए जाने के बाद जनता का विश्वास मुहीदीन के प्रति बढ़ सकता है लेकिन सरकार चला रहे गठबंधन के भीतर तनाव पैदा कर सकता है जिसमें नजीब की यूएमएनओ पार्टी (United Malays National Organisation) बड़ा घटक है. अरबों डॉलर के घोटाले को लेकर जनता के गुस्से के कारण 2018 में नजीब की पार्टी को सत्ता से बाहर होना पड़ा था.

    फैसला सुनते हुए नजीब शांतचित्त दिख रहे थे

    इस मामले को व्यापक रूप से मलेशिया के भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के संकल्प के तौर पर देखा जा रहा है और दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के लिए भी इसके बड़े राजनीतिक अर्थ निकाले जा रहे हैं. क्वालालंपुर उच्च न्यायालय के न्यायाधीश मोहम्मद नाज़लान गजाली ने जब उन्हें दोषी बताया तब 67 वर्षीय नजीब शांतचित्त दिख रहे थे. जज गजाली ने दो घंटे तक अपने फैसले को पढ़ने के बाद कहा कि मैं आरोपी को दोषी पाता हूं और सभी सात आरोपों में दोषी करार देता हूं.

    जज ने यह भी कहा कि इस मुकदमे में सभी सबूतों पर विचार करने के बाद मुझे लगता है कि अभियोजन पक्ष ने इस मामले को बिलकुल साफ़ कर दिया है और शक या संदेह की कोई गुंजाईश नहीं बची और यह साफ़ है कि नजीब ने अपने निजी उपयोग के लिए धन का दुरुपयोग किया है.

    नजीब ने कहा कि मुझे बैंकरों ने किया गुमराह, करेंगे अपील

    विशेषज्ञों का मानना है कि यह फैसला नजीब के अन्य मुकदमों पर भी असर डालेगा और व्यापारियों को भी यह संकेत जाएगा कि मलेशिया की कानूनी प्रणाली में अंतरराष्ट्रीय वित्तीय अपराधों से निपटने की ताकत है. पूर्व प्रधानमंत्री नजीब ने इस मामले के खिलाफ अपील करने की बात की और कहा कि उन्हें बैंकरों द्वारा गुमराह किया गया था और उनके खिलाफ यह मामला राजनीतिक साजिश है.

    20 साल तक की हो सकती है जेल

    नजीब पर पांच अलग-अलग मुकदमे चल रहे हैं जिनमें वे 42 आरोपों का सामना कर रहे हैं और उन्हें 15 से 20 साल की सजा हो सकती है. वर्तमान मुकदमे में सत्ता के दुरुपयोग का आरोप, विश्वासघात तोड़ने के तीन आरोप और मनी लॉन्ड्रिंग के तीन आरोप शामिल थे.

    ये भी पढ़ें: अच्छी खबर: बुकर पुरस्कार की दौड़ में भारतीय लेखिका अवनि दोशी भी शामिल

    चीन के सीडीसी प्रमुख ने भी कोरोना का टीका लगवाया, कहा- यह हमें बचाएगा

    सिंगापुर के इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल अफेयर्स के एक वरिष्ठ साथी ओह आई सन ने कहा कि यह सजा आईएमडीबी से संबंधित मुकदमों की सुनवाई में अभियोजन के लिए एक ठोस आधार के रूप में काम करेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.