2014 में लापता हुआ मलेशियाई विमान अंतिम समय तक पायलट के कंट्रोल में था

मलेशिया के कुआलालंपुर से बीजिंग जा रहा यह विमान जब गायब हुआ, तब इस पर 239 यात्री भी सवार थे.

News18Hindi
Updated: July 13, 2019, 6:06 AM IST
2014 में लापता हुआ मलेशियाई विमान अंतिम समय तक पायलट के कंट्रोल में था
फोटो- रायटर
News18Hindi
Updated: July 13, 2019, 6:06 AM IST
मलेशियन एयरलाइंस का एक विमान एमएच-370 8 मार्च, 2014 को हवा में ही गायब हो गया था. आज भी उस विमान की तलाश की जा रही है. इस बीच मीडिया की रिपोर्ट सामने आई है जिसमें यह दावा किया गया है कि कुआलालंपुर से बीजिंग जा रहे मलेशिया एयरलाइंस का विमान अंतिम समय तक पायलट के कंट्रोल में था.

इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद से इस बात की आशंका गहरा गई है कि पायलट ने ने जानबूझकर इसे समुद्र में क्रैश किया था.



गौरतलब है कि मलेशिया के कुआलालंपुर से बीजिंग जा रहा यह विमान जब गायब हुआ, तब इस पर 239 यात्री भी सवार थे. किसी विमान को खोजने का यह इतिहास में अब तक का सबसे लंबा अभियान था. इसमें लाखों डॉलर खर्च हुए. इसके बाद भी फ्लाइट एमएच-370 को ढूंढ़ा नहीं जा सका.

फ्रांस अभी तक कर रहा जांच

इस विमान में तीन यात्री फ्रांस के नागरिक थे. इस वजह से फ्रांस इस मामले की अभी तक जांच कर रहा है. विमान में फ्रांस की एक महिला और इसके दो बच्चे सवार थे, महिला के पति घिसलेन वात्रेलोस इंजीनियर हैं। उन्होंने बुधवार को जजों से मुलाकात की थी. फ्रांस के अखबार ले पेरिसिएन के मुताबिक बोइंग ने फ्रांस को विमान के महत्वपूर्ण फ्लाइट डाटा एक्सेस करने की अनुमति दे दी थी.

कई टुकड़ों में बिखर जाने के चलते नहीं मिला प्लेन
एक रिपोर्ट में विलियम नाम के एक लेखक ने दावा किया है कि दरअसल यह प्लेन एक अवसाद का शिकार पायलट चला रहा था, जिसकी गलती से प्लेन ऐसा क्रैश हुआ कि हजारों छोटे-छोटे टुकड़ों में बिखर गया. हालांकि यह सच हो या न हो लेकिन इस प्लेन को लेकर कई सारी षड्यंत्रकारी घटनाओं का जिक्र भी होता रहा है.
Loading...

ये भी पढ़ें-
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...