मलेशियाई प्रधानमंत्री बोले- तनाव रोकने के लिए संयम बरतें भारत-पाकिस्तान

पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान ने सोमवार को मलेशियाई पीएम महातिर को कश्मीर के हालात के बारे में बताया था.

भाषा
Updated: August 8, 2019, 5:55 PM IST
मलेशियाई प्रधानमंत्री बोले- तनाव रोकने के लिए संयम बरतें भारत-पाकिस्तान
मलेशियाई प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद (फाइल फोटो)
भाषा
Updated: August 8, 2019, 5:55 PM IST
मलेशियाई प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने गुरुवार को उम्मीद जताई कि भारत और पाकिस्तान (Pakistan) जम्मू-कश्मीर में शांति और स्थायित्व के लिए नुकसानदेह साबित होने वाले तनाव को रोकने की खातिर ‘यथासंभव संयम. बरतेंगे. उन्होंने कहा कि मलेशिया जम्मू-कश्मीर के हालिया घटनाक्रम को लेकर चिंतित है.

भारत सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 (Article 370) को निरस्त कर दिया और इस सीमावर्ती राज्य को सोमवार को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया. इस प्रस्ताव पर संसद की भी मुहर लग चुकी है.

इसके जवाब में पाकिस्तान(Pakistan) ने बुधवार को भारतीय उच्चायुक्त को निकाल दिया और भारत के साथ अपने कूटनीतिक संबंधों को कम करने का फैसला किया. पाक ने भारत के इस कदम को एकपक्षीय और अवैध करार दिया.

इमरान ने कश्मीर राग अलापा

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने सोमवार को मलेशियाई पीएम महातिर को कश्मीर के हालात के बारे में बताया था. महातिर के कार्यालय ने एक बयान में कहा, प्रधानमंत्री इमरान खान समेत अन्य लोगों ने जम्मू कश्मीर के संबंध में प्रासंगिक संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के सम्मान की जरूरत का हवाला दिया.

जम्मू-कश्मीर के हालात पर मलेशिया चिंतित
बयान में कहा गया कि अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिये मलेशिया सभी पक्षकारों से जम्मू कश्मीर को लेकर प्रासंगिक संरा सुरक्षा परिषद प्रस्ताव का पालन करने का आग्रह करता है. इसमें कहा गया कि मलेशिया जम्मू कश्मीर में हालिया घटनाक्रम को लेकर चिंतित है.
Loading...

ये भी पढ़ें- अयोध्या विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने पूछा- भूमि विवाद में जन्म स्थान को कैसे बनाया जा सकता है पक्षकार

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 8, 2019, 5:55 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...