लाइव टीवी

आतंकवादी हमले में माली के 24 सैनिकों की मौत, 17 जिहादी मारे गए: सेना

News18Hindi
Updated: November 19, 2019, 10:35 AM IST
आतंकवादी हमले में माली के 24 सैनिकों की मौत, 17 जिहादी मारे गए: सेना
आतंकवादी हमले में माली के 24 सैनिकों की मौत (फोटो-प्रतीकात्मक)

पूर्वोत्तर के कस्बे तबनकोर्ट के नजदीक माली और नाइजर के बल संयुक्त अभियान (Joint Operation) चला रहे थे जब गश्ती दलों पर आतंकियों ने हमला किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 19, 2019, 10:35 AM IST
  • Share this:
बमाको. पश्चिमी अफ्रीकी देश में सुरक्षा हालात लगातार बिगड़ रहे हैं. देश के पूर्वी हिस्से में सोमवार को हुई झड़पों में माली (Mali) के 24 सैनिकों की मौत हो गई और 17 जिहादी लड़ाके भी मारे गए. सेना ने सोशल मीडिया (Social Media) पर जानकारी दी कि पूर्वोत्तर के कस्बे तबनकोर्ट के नजदीक माली और नाइजर के बल संयुक्त अभियान (Joint Operation) चला रहे थे जब गश्ती दलों पर आतंकियों ने हमला किया.

सेना के मुताबिक इस हमले में 24 की मौत हो गई और 29 घायल हो गए. इस दौरान 17 जिहादी भी मारे गए और कम से कम 100 संदिग्धों को पकड़ा गया है. ट्वीट में कहा गया कैदी नाइजर के सैनिकों के कब्जे में हैं. माली की सेना ने अपने पोस्ट में कई जलती हुई मोटरसाइकिल की फोटो पोस्ट की. उन्होंने बताया कि इस घटना में 70 मोटरसाइकिल जल कर नष्ट हो गई हैं.

फ्रांस, अफ्रीकी पड़ोसियों और अमेरिका की मदद से माली की सेना इस्लामिक उग्रवाद पर लगाम लगाने के लिए संघर्ष कर रही है. इस बात का किसी का अभी खुलासा नही हुआ है कि आतंकवादी किस संगठन से संबंधित हैं.

माली को 2012 से हिंसा का सामना करना पड़ा है जब इस्लामिक आतंकवादियों ने कई प्रमुख शहरों को अपने कब्जे में लेते हुए अलगाववादी विद्रोह का शोषण किया था. संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, जनवरी से लेकर अब तक माली और बुर्किना फासो में 1,500 से अधिक नागरिक मारे गए हैं, यहां लाखों लोगों को मानवीय सहायता की जरूरत है.

यह देश जी 5 सहेल का भी सदस्य है, जो आतंकवाद रोधी बल है, जिसमें मॉरिटानिया, माली, नाइजर, बुर्किना फासो और चाड के सैनिक शामिल हैं. फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने भी कहा है कि 2020 से माली में अधिक सैन्य संसाधन भेजे जाएंगे. (भाषा इनपुत के साथ)

ये भी पढ़ें : गलती से सीमापार गए थे दो भारतीय, पाक ने 2 साल बाद दिखाई गिरफ्तारी, बताया आतंकी 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 19, 2019, 10:35 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर