सोमैला सिमी को छुड़ाने के लिए माली सरकार ने 180 इस्लामी कट्‌टरपंथियों को रिहा किया

सोमैला सिसे को रिहा कराने के लिए 180 इस्लामी कंट्‌टरपंथियों को छोड़ गया है.  (फाइल फोटो)
सोमैला सिसे को रिहा कराने के लिए 180 इस्लामी कंट्‌टरपंथियों को छोड़ गया है. (फाइल फोटो)

सोमैला सिसे (Somaila Sise) अपने अपहरण के समय टिम्बकटू से कुछ दूरी पर विधानसभा चुनावों का प्रचार कर रहे थे. इस दौरान आतंकियों (Terrorists) ने हमला करके उन्हें बंधक बना लिया, इस हमले में सिसे का अंगरक्षक मारा गया (Bodyguard killed) था. वहीं आतंकियों की कैद में उनके जीवित रहने का एक मात्र प्रमाण उनके द्वारा अगस्त में उनके हाथ से लिखे हुए लैटर है, जो कि उनकी हैंड राइटिंग से मिलते हैं.

  • Share this:
बमाको. माली के अधिकारियों ने राजधानी की एक जेल से 180 इस्लामी कट्टरपंथियों को रिहा किया. और उन्हें देश के उत्तरी हिस्से में हवाई मार्ग से ले जाया गया. एक अधिकारी ने रविवार को देर रात इस बात की पुष्टि की . इससे ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि इसके बदले में जिहादियों द्वारा बंधक बनाए गए विपक्ष के एक जानेमाने नेता जल्द रिहा हो सकते हैं. वह छह महीने से जिहादियों के कब्जे में हैं.

सोमैला सिसे (70) को मार्च में अगवा किया गया था. माना जाता है कि नेता को छोड़ने के बदले में जिहादी माली सरकार से कुछ कैदियों को छोड़ने की मांग कर रहे थे. एक अधिकारी ने बताया कि शनिवार को करीब 70 कैदियों को और रविवार को 110 कैदियों को छोड़ा गया है. इस बारे में माली की सरकार की ओर से कोई टिप्पणी नहीं आई है.

यह भी पढ़ें: 'गामा' तूफान से 6 लोगों की मौत, हजारों लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया



सोमैला सिसे अपने अपहरण के समय टिम्बकटू से कुछ दूरी पर विधानसभा चुनावों का प्रचार कर रहे थे. इस दौरान आतंकियों ने हमला करके उन्हें बंधक बना लिया, इस हमले में सिसे का अंगरक्षक मारा गया था. वहीं आतंकियों की कैद में उनके जीवित रहने का एक मात्र प्रमाण उनके द्वारा अगस्त में उनके हाथ से लिखे हुए लैटर है, जो कि उनकी हैंड राइटिंग से मिलते हैं.
यह भी पढ़ें: एक जिद ने किया कमाल, नशा छोड़कर बच्चे खेल रहे हैं फुटबॉल
माली सरकार को सोमैला के अपहरण होने के बाद से उनके बारे में कोई खास जानकारी नहीं मिली है, अपहरण के दौरान हमलावरों ने उनकी कार पर गोलियां चलाई थी. जिसमें वह हमले में टूटे हुए कांच से घायल हो गए थे.

आपको बता दें कि आतंकवादी उत्तरी और मध्य माली में सक्रिय हैं, जो कि माली की सेना और अमेरिका की शांति सेना पर आए दिन घात लगाकर हमला करते रहते हैं. 2013 में फ्रांस की सेना ने आतंकियों का लगभग सफाया कर दिया था, लेकिन उसके बाद एक फिर संगठित होकर उन्होंने आतंकवाद शुरु कर दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज