लाइव टीवी

पाकिस्तानी हिंदू लड़कियों का अपहरण और धर्म परिवर्तन कर निकाह करवाने वाला मौलवी गिरफ्तार

News18Hindi
Updated: August 13, 2019, 1:24 PM IST

खबर है कि इन नाबालिग लड़कियों ने पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में बहावलपुर की अदालत में सुरक्षा के लिये गुहार लगाई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 13, 2019, 1:24 PM IST
  • Share this:
पाकिस्तान में दो नाबालिग हिंदू लड़कियों का कथित रूप से निकाह करवाने वाले मौलवी को गिरफ्तार कर लिया गया. खबरों के मुताबिक इन नाबालिग हिंदू लड़कियों का अपहरण के बाद जबरन धर्म परिवर्तन करा दिया गया था. निकाह करवाने वाले मौलवी को सिंध में खानपुर से गिरफ्तार किया गया. खबर है कि इन नाबालिग लड़कियों ने पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में बहावलपुर की अदालत में सुरक्षा के लिये गुहार लगाई है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मामले में जांच के आदेश दिये हैं. 13 साल की रवीना और 15 साल की रीना का इलाके के दंबगों ने घोटकी जिले स्थित उनके घर से कथित रूप से अपहरण कर लिया था. बता दें कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी सिंध में दो हिंदू किशोरियों का अपहरण कर जबरन उन्हें इस्लाम स्वीकार करवाने की खबरों को लेकर पाकिस्तान में भारत के दूत से जानकारी मांगी है. सुषमा स्वराज ने इस घटना के संबंध में मीडिया की रिपोर्ट साझा करते हुए ट्वीट किया कि उन्होंने पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त से इस मामले पर रिपोर्ट भेजने को कहा है.

पाकिस्तान में दो नाबालिग हिंदू लड़कियों का कथित रूप से निकाह करवाने वाले मौलवी को गिरफ्तार कर लिया गया. खबरों के मुताबिक इन नाबालिग हिंदू लड़कियों का अपहरण के बाद जबरन धर्म परिवर्तन करा दिया गया था. खबर है कि इन नाबालिग लड़कियों ने पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में बहावलपुर की अदालत में सुरक्षा के लिये गुहार लगाई है. निकाह करवाने वाले मौलवी को सिंध में खानपुर से गिरफ्तार किया गया.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मामले में जांच के आदेश दिये हैं. 13 साल की रवीना और 15 साल की रीना का इलाके के दंबगों ने घोटकी जिले स्थित उनके घर से कथित रूप से अपहरण कर लिया था. बता दें कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी सिंध में दो हिंदू किशोरियों का अपहरण कर जबरन उन्हें इस्लाम स्वीकार करवाने की खबरों को लेकर पाकिस्तान में भारत के दूत से जानकारी मांगी है. सुषमा स्वराज ने इस घटना के संबंध में मीडिया की रिपोर्ट साझा करते हुए ट्वीट किया कि उन्होंने पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त से इस मामले पर रिपोर्ट भेजने को कहा है.

भारत की ओर से इस मामले में पाकिस्तान को एक नोट भी जारी किया गया था. सूत्रों के अनुसार, यह नोट रविवार को भेजा गया था, जिसमें पाकिस्तान सरकार द्वारा अपने नागरिकों, विशेष रूप से अल्पसंख्यक समुदायों की सुरक्षा, सुरक्षा और कल्याण को बचाने और बढ़ावा देने के लिए उपयुक्त कार्रवाई करने के लिए कहा गया था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 25, 2019, 11:24 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...