लाइव टीवी

नेपाल में 5 दिन बाद मलबे के ढेर से जिंदा निकला युवक

News18India
Updated: May 1, 2015, 7:30 AM IST
नेपाल में 5 दिन बाद मलबे के ढेर से जिंदा निकला युवक
मारने वाले से बचाने वाला बड़ा होता है। नेपाल में आई तबाही में हजारों लोग एक ही झटके में मौत के मुंह में समा गए। कुदरत का ये बेरहम चेहरा देखकर हर शख्स दर्द में डूब गया। ले

मारने वाले से बचाने वाला बड़ा होता है। नेपाल में आई तबाही में हजारों लोग एक ही झटके में मौत के मुंह में समा गए। कुदरत का ये बेरहम चेहरा देखकर हर शख्स दर्द में डूब गया। ले

  • Share this:

नई दिल्ली।  मारने वाले से बचाने वाला बड़ा होता है। नेपाल में आई तबाही में हजारों लोग एक ही झटके में मौत के मुंह में समा गए। कुदरत का ये बेरहम चेहरा देखकर हर शख्स दर्द में डूब गया। लेकिन फिर जैसे चमत्कार होने लगा। घंटों बाद हजारों टन मलबे के नीचे से जिंदगी की धड़कनें सुनाई देने लगीं। बचाव दल ने 18 साल के एक लड़के को काठमांडू में मलबे से सुरक्षित निकाल लिया है।


नेपाल में आए भयंकर भूकंप में की चपेट में ये लड़का भी आ गया था। लड़का पांच दिनों तक मलबे में दबा था। पेम्बा तमांग नाम का ये लड़का जैसे ही स्ट्रैचर पर बाहर निकाला गया वहां मौजूद लोग खुशी में चिल्लाने लगे। तमांग का चेहरा पूरी तरह धूल से ढका हुआ था। आपको बता दें कि इस लड़के को नेपाल की बचाव टीम ने अमेरिकी टीम की मदद से बाहर निकाला। बचाव दल के मुताबिक वो तमांग को बचाने के लिए कई घंटों से मशक्कत कर रहे थे। और आखिरकार उन्हें कामयाबी मिल ही गई।

इससे पहले 40 साल की एक महिला को भारतीय बचाव दल ने सही सलामत मलबे के ढेर से बाहर निकाला था। ये 36 घंटे तक मलबे में दबी रही। जब भूकंप आया था तो ये महिला पांच मंजिला इमारत के ग्राउंड फ्लोर पर बने अपार्टमेंट में थी। भूकंप में ये पूरी इमारत गिर गई थी और ये महिला 36 घंटे तक एक बीम के नीचे दबी रही।

बचाव अभियान के दौरान मलबे से एक ऐसे शख्स को भी निकाला गया जो भूकंप के बाद लगभग 80 घंटों तक मलबे के नीचे दबा रहा। बचाए गए शख्स ने बताया कि उसने अपने बचने की उम्मीद खो दी थी। उसके नाखून सफेद होने लगे थे। जिस जगह वो पड़ा था वहां चारों तरफ लाशों का ढेर था जहां से भयानक बदबू आ रही थी। लेकिन वो लगातार शोर करता रहा और आखिरकार फ्रांस के बचाव दल का उस पर ध्यान गया और उसे कई घंटों की मशक्कत के बाद बचा लिया।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 1, 2015, 7:24 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर