US Election: मार्क जकरबर्ग ने दी चेतावनी, कहा- राष्ट्रपति चुनाव से पहले देश में फैल सकती है अशांति

फेसबुक सीईओ मार्क जकरबर्ग (फाइल फोटो)
फेसबुक सीईओ मार्क जकरबर्ग (फाइल फोटो)

इससे पहले भी फेसबुक (Facebook) पर अमेरिकी चुनाव को प्रभावित करने के आरोप लग चुके हैं. एक चर्चा में शामिल हुए मार्क जकरबर्ग (Mark Zuckerberg) ने देश में अशांति फैलने के जोखिम को लेकर चेतावनी दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2020, 1:21 PM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन. अमेरिका के राष्ट्रपति के चुनाव (US Election) में कुछ ही दिनों का वक्त बचा है. ऐसे में सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक के मालिक मार्क जकरबर्ग ने नई चिंता जाहिर की है. उन्होंने आशंका जताई है कि वोट की गिनती के दौरान देश में सामाजिक अशांति (Civil Unrest) फैल सकती है. इस दौरान जकरबर्ग ने सोशल मीडिया पर गलत जानकारी और वोटरों को प्रभावित करने वाली चीजों पर भी बात की.

इस हफ्ते कैपिटल हिल पर आयोजित एक सेशन में शिरकत करने पहुंचे जकरबर्ग ने कहा, 'मुझे चिंता है कि हमारा देश इतना बंटा हुआ है और चुनाव के नतीजों को आने में कुछ दिन या हफ्तों का समय लग सकता है. ऐसे में सामाजिक अशांति का जोखिम भी है.' उन्होंने कहा, 'ऐसे हालात में हमारे जैसी कंपनियों को पहले किए गए कामों से आगे जाकर कुछ करना होगा.'

राजनीतिक विज्ञापनों को लेकर हुआ था विवाद
इलेक्शन डे (Election Day) के एक दिन पहले नए पेड विज्ञापनों पर बैन लगाने के चलते विरोधी दलों ने शिकायत की थी कि फेसबुक चुनाव अभियान को कम कर रहा है. हालांकि, इसके जवाब में फेसबुक के प्रोडक्ट मैनेजर रॉब लैथर्न ने ट्वीट में लिखा, 'गलत तरीके से रुके हुए कुछ विज्ञापनों के मामले की हम जांच कर रहे हैं और कुछ एडवरटाइजर्स को अपने अभियान में बदलाव करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.'
'अगले सप्ताह फेसबुक की अग्निपरीक्षा होगी'


जकरबर्ग ने कहा, 'अगले हफ्ते फेसबुक की अग्निपरीक्षा होगी, मुझे अपने यहां किए गए कामों पर गर्व है.' उन्होंने कहा, 'मैं यह जानता हूं कि हमारा काम 3 नवंबर के बाद भी नहीं रुकेगा. इसलिए हम नए खतरों का अनुमान लगाते रहेंगे. लोकतांत्रिक प्रक्रिया की अखंडता की सुरक्षा और लोगों की आवाज दुनिया के सामने उठाने के हक के लिए हम अपने तरीके और लड़ाई को और बेहतर बनाते रहेंगे.' इससे पहले भी फेसबुक पर अमेरिकी चुनावों को प्रभावित करने के आरोप लग चुके हैं. इस वजह से कंपनी को काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज