FATF को गुमराह करने की कोशिश में पाकिस्तान, कहा- लापता हो गया आतंकी मसूद अजहर और उसका परिवार

FATF को गुमराह करने की कोशिश में पाकिस्तान, कहा- लापता हो गया आतंकी मसूद अजहर और उसका परिवार
मसूद अजहर

मसूद अजहर (Masood Azhar) का संगठन 'जैश-ए-मोहम्मद' भारत ही नहीं अमेरिका, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और कनाडा में भी आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे चुका है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 16, 2020, 9:38 AM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. पाकितान ने फाइनेंशियल एक्शन टास्क फॉर्स’ (Financial Action Task Force) को बताया है कि आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) का सरगना मौलाना मसूद अजहर (Masood Azhar) और उसका परिवार लापता हो गया है. हालांकि सूत्रों का कहना है कि वो और उसका परिवार रावलपिंडी में है. मसूद अजहर का संगठन 'जैश-ए-मोहम्मद' भारत ही नहीं अमेरिका, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और कनाडा में भी अपनी आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे चुका है. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने मसूद अजहर को पिछले साल 1 मई को वैश्विक आतंकी घोषित किया था.

पाकिस्तान के दावे
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान ने दावा किया है कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित 16 ग्लोबल आतंकी उनके यहां हैं. इसमें से 7 की मौत हो चुकी है. वहीं बाकी बचे 9 आतंकियों ने संयुक्त राष्ट्र से आर्थिक और ट्रैवल बैन को हटाने की मांग की थी. पाकिस्तान ने ये भी दावा किया है कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित आतंकी संगठनों के करीब साढ़े पांच हज़ार अकाउंट को भी बंद कर दिया गया है.

ब्लैक लिस्ट होने से बचने का तरीका!



बता दें कि पाकिस्तान का ये सारा पैंतरा FATF से ब्लैक लिस्ट होने से बचने के लिए है. ब्लैक लिस्ट होने पर आर्थिक तंगी से जूझ रहे पाकिस्तान को वर्ल्ड बैंक से कर्ज नहीं मिलेगा. आज से पेरिस में FATF की बैठक पेरिस में शुरू हो रही है. इस बार बैठक की अध्यक्षता चीन कर रहा है. FATF ने जून 2018 में पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाला था. साथ ही चेतावनी थी कि वो आतंकी फंडिंग पर तुरंत रोक लगाए. बता दें कि फिलहाल FATF की ब्लैक लिस्ट में ईरान और नॉर्थ कोरिया है.



बीमार होने का दावा
पिछले साल ऐसी खबर आई थी कि मसूद अजहर किडनी की बीमारी से जूझ रहा है. ऐसे में ज्यादातर वक्त वह अपने क्वॉर्टर में ही आराम करता है. बीमारी के चेलत वो जैश का कोई भी काम नहीं देख पा रहा. छोटा भाई ही सबकुछ संभाल रहा है. सूत्रों का कहना था कि पाकिस्तान के बहावलपुर में जैश के अभी दो प्रमुख ठिकाने हैं- मरकज उस्मान-ओ-अली और मरकज सुभान अल्लाह. यहां से सारे ऑपरेशंस को रऊफ ही हैंडल कर रहा है.



भारत पर कई हमले किए हैं जैश ने
कंधार में 1999 में रिहा होते ही मसूद अजहर ने जैश ए मोहम्मद के नाम से आतंकी संगठन खड़ा किया. इस संगठन ने भारत पर कई हमले की वारदातों को अंजाम दिया
>2001 जम्मू-कश्मीर विधानसभा पर हमला किया, जिसमें 38 लोगों की जान गई थी.
> साल 2001 में इस संगठन ने संसद भवन पर हमला किया था. संसद के सुरक्षाकर्मियों ने जवाबी कार्रवाई में सभी आतंकवादियों को मार दिया लेकिन हमारे भी सात लोगों की जानें गईं.

> साल 2014-2015 में अफजल गुरु को फांसी होने के बाद जैश ए मोहम्मद कश्मीर में फिर सक्रिय हो गया. इसने अफजल गुरु शहीद स्कवॉड बनाया. जिसने कठुआ, सांबा, हंदवारा और पुलवामा के कई पुलिस स्टेशनों और सेना के शिविरों पर हमला किया. इसमें एक दर्जन से ज्यादा सुरक्षा कर्मी शहीद हो गए.

> साल 2016 में अफजल गुरु स्क्वॉड के चार आतंकवादी 02 जनवरी को काफी हथियारों से लैस होकर भारी सुरक्षा वाले पठानकोट के एयरफोर्स बेस में दाखिल हो गए. इस हमले में छह सुरक्षाकर्मी मारे गए.

>2016 में 18 सितंबर को जैश ए मोहम्मद के चार आतंकवादियों ने भारतीय सेना ब्रिगेड के उरी मुख्यालय पर हमला कर दिया. ये जगह नियंत्रण रेखा के करीब है. उन्होंने तीन मिनट में 17 हथगोले दागे. एडमिनिस्ट्रेटिव कैंप में तुरंत आग लग गई. इस हमले में सेना के 17 जवान शहीद हो गए.

>14 फरवरी 2019 को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमला कर दिया. इसमें सीआरपीएफ के 40 से ज्यादा जवान शहीद हो गए.

ये भी पढ़ें:

इराक के बगदाद में अमेरिकी दूतावास के पास फिर रॉकेट से हमला

लोगों की प्राइवेट बातें सुनती थी ये मैसेजिंग ऐप, Google ने प्ले स्टोर से हटाया
First published: February 16, 2020, 9:15 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading