मसूद अजहर ने तालिबान से मिलाया हाथ, कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए तैयार किए टॉप टेररिस्ट

मसूद अजहर भारत में कई आतंकी हमलों का मास्टरमाइंड है
मसूद अजहर भारत में कई आतंकी हमलों का मास्टरमाइंड है

गृह मंत्रालय के उच्च अधिकारियों ने News18 को ये जानकारी दी. अधिकारियों के मुताबिक, मसूद अजहर के निर्देश पर जैश कमांडर माविया खान बीते महीने आतंकियों के एक ग्रुप को पाकिस्तान-अफगानिस्तान बॉर्डर ले गया. माना जा रहा है कि माविया खान इस टेरर नेटवर्क का लॉन्चिंग कमाडंर है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 25, 2019, 2:17 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत में कई आतंकी हमलों के मास्टरमाइंड मसूद अजहर (Masood Azhar) ने आतंक फैलाने के लिए अब तालिबान के साथ हाथ मिला लिया है. खुफिया एजेंसियों को मिली इनपुट के मुताबिक, आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammad) और तालिबान के बीच डील हुई है. इसके तहत जैश सरगना मसूद अजहर ने अपने टॉप आतंकियों को तालिबान के साथ नई साजिश पर काम करने के लिए भेजा है. जैश-ए-मोहम्मद तालिबान के साथ-साथ हक्कानी नेटवर्क के संपर्क में भी है.

गृह मंत्रालय के उच्च अधिकारियों ने News18 को ये जानकारी दी. अधिकारियों के मुताबिक, मसूद अजहर के निर्देश पर जैश कमांडर माविया खान बीते महीने आतंकियों के एक ग्रुप को पाकिस्तान-अफगानिस्तान बॉर्डर ले गया. माना जा रहा है कि माविया खान इस टेरर नेटवर्क का लॉन्चिंग कमाडंर है. माविया ने पाक-अफगान बॉर्डर जाकर किन लोगों से मुलाकात की, इस बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं मिली है. इसके बारे में खुफिया एजेंसियां और जानकारी जुटा रही हैं.

PoK के इन दो इलाकों में चलाता है लॉन्चपैड
News18 को गृह मंत्रालय से जुड़े सूत्रों ने बताया कि माविया खान पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) के नाकयाल और कोटली इलाके में टेरर लॉन्चपैड चला रहा है. यहीं से उसे पाक-अफगान क्षेत्र में 'नए असाइनमेंट' पर काम करने को बोला गया है.
रिपोर्ट के मुताबिक, बताया जा रहा है कि इसी बीच भवालपुर में टेरर ग्रुप चलाने वाला रउफ अजघर पीओके क्षेत्र में चल रहे टेरर लॉन्चपैड पहुंचा. इसी दौरान यहां 50 आतंकियों की भर्ती भी हुई. खुफिया एजेंसियों का मानना है कि इन आतंकी समूहों को पाकिस्तानी आर्मी से भी मदद मिल रही है, क्योंकि हाल ही में नियंत्रण रेखा के पास BAT कमांडोज देखे गए थे.




TERRORIST
खुफिया एजेंसियों का मानना है कि इन आतंकी समूहों को पाकिस्तानी आर्मी से भी मदद मिल रही है.


BAT भी कर रही है मदद
पाकिस्तान का नॉटोरियस बॉर्डर एक्शन टीम (BATs) पाकिस्तानी आर्मी की स्पेशल टीम होती है. इसमें सेना के कंमाडो के साथ आतंकवादी भी शामिल होते हैं. ऐसे आतंकी जो बेहद क्रूर हो और बर्बरता करते हो. ये टीम छापामार युद्ध में भी पारंगत होती है. कश्मीर में आर्टिकल 370 को कमजोर किए जाने के बाद से भारतीय सेना को कई BAT हमलों का सामना करना पड़ा है. बताया जा रहा है कि BAT भी इन आतंकियों को मदद कर रही है.

जैश ने कराया था पुलवामा हमला
कि जैश-ए-मोहम्मद ने इसी साल 14 फरवरी को कश्मीर के पुलवामा में हुए आत्मघाती हमलों की जिम्मेदारी ली है. सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे. हमला कराने के लिए जैश ने स्थानीय कश्मीरी लड़के का इस्तेमाल किया था.

वहीं, पुलवामा से पहले साल 2001 में तीन फिदायीनों ने जम्मू-कश्मीर विधानसभा कॉम्प्लेक्स में हमला किया था. इस हमले में 38 भारतीयों और तीनों आतंकियों की मौत हो गई थी.

ये भी पढ़ें: अमेरिका में इमरान खान की आई अक्ल ठिकाने, बोले-हम भारत पर हमला नहीं कर सकते

विदेश मंत्री की इमरान को नसीहत, कहा-पाकिस्तान से नहीं 'टेररिस्तान' से बात करने में है दिक्कत
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज