VIDEO: पीओके में चीन के खिलाफ रोष, रैली निकालकर कहा- नीलम-झेलम बहने दो, हमें जिंदा रहने दो

VIDEO: पीओके में चीन के खिलाफ रोष, रैली निकालकर कहा- नीलम-झेलम बहने दो, हमें जिंदा रहने दो
फोटो सौ. (ANI)

पीओके (POK) की जनता की ओर से निकाली गई इस रैली का आयोजन चीन (China) की कंपनियों की ओर से नीलम-झेलम नदी पर होने वाले मेगा बांध (मेगा डैम) के निर्माण का विरोध करने के लिए था. इस दौरान रैली में शामिल प्रदर्शनकारियों ने नदियों को बचाने के नारे भी लगाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 13, 2020, 8:14 PM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान (Pakistan) हमेशा से ही कश्मीर पर कब्जा चाहता है, लेकिन भारत उसके इस सपने को कभी पूरा नहीं होने देता है. इसी बीच एक खबर सामने आई है जहां पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के मुजफ्फराबाद (Muzaffarabad) में बुधवार को लोगों ने चीनी फर्म के खिलाफ रैली निकाली. दरअसल, यहां नीलम-झेलम नदी पर चीन की कंपनी मेगा-डैम बनवा रही है. रैली के दौरान स्थानीय 'दरिया बचाओ, मुजफ्फराबाद बचाओ' 'नीलम-झेलम बहने दो, हमें जिंदा रहने दो' जैसे नारे लगा रहे थे.

वहीं, पीओके के पॉलिटिकल एक्टिविस्ट डॉ. अमजद अयूब मिर्जा ने एएनआई से कहा- पीओके में इस तरह के प्रदर्शन लंबे समय से चल रहे हैं, लेकिन कोई इनकी सुनने वाला नहीं है. चीन की थ्री गोरजेस कॉर्पोरेशन यहां अरबों डॉलर के प्रोजेक्ट का निर्माण कर रही है. उन्होंने नदियों का रास्ता बदल दिया है. इसके चलते मुजफ्फराबाद में प्रदर्शन हो रहे हैं.
हाल ही में, पाकिस्तान और चीन ने पीओके में अजाद पट्टन और कोहला हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट्स बनाने को लेकर समझौता किया था. चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) के तहत आजाद पट्टन हाइडेल पावर प्रोजेक्ट को लेकर 6 जुलाई को साइन किए गए थे. इससे 700.7 मेगावाट बिजली का उत्पादन होगा. 1.54 अरब डॉलर के इस प्रोजेक्ट को चीन के जियोझाबा ग्रुप की कंपनी बना रही है.

ये भी पढ़ें: अमेरिका की अपील- पाकिस्तान में हो सकता है आतंकी हमला, कोई भी नागरिक ना जाए वहां



कोहला हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्रोजेक्ट को झेलम नदी पर बनाया जाएगा. यह पीओके के सुधनोटी जिले में आजाद पट्टन ब्रिज से लगभग 7 किलोमीटर और पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद से 90 किमी दूर है. इस प्रोजेक्ट के 2026 तक पूरा होने की उम्मीद है. इसे चीन के थ्री गोरजेस कॉर्पोरेशन, इंटरनेशनल फाइनेंस कॉर्पोरेशन और सिल्क बैंक फंड द्वारा बनाया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज