किम जोंग-उन की न मौत हुई, न कोमा में, कोरोना के डर से हुए अंडरग्राउंड: रिपोर्ट

किम जोंग ने साउथ कोरिया से बातचीत के लिए बनाया गया ऑफिस बम से उड़ाया
किम जोंग ने साउथ कोरिया से बातचीत के लिए बनाया गया ऑफिस बम से उड़ाया

किम जोंग उन (Kim Jong Un) ने 15 अप्रैल को देश के नेशनल हॉलीडे के कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लिया था, जिसके बाद से उनके बीमार होने के कयास लगाए जाने लगे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2020, 9:17 AM IST
  • Share this:
प्योंगयांग. उत्तर कोरिया (North Korea) के सुप्रीम लीडर किम जोंग उन (Kim Jong Un) को लेकर दुनिया भर में अलग-अलग दावे किए जा रहे हैं. कोई कह रहा है कि हार्ट की सर्जरी सफल न होने के चलते उनकी मौत हो चुकी है, जबकि कुछ मीडिया रिपोर्ट्स ये दावा कर रहे हैं कि वो कोम में चले गए हैं. अब किम को लेकर नई खबर सामने आई है. दक्षिण कोरिया (South Korea) के दो अखबारों ने दावा किया है कि किम जोंग उन पूरी तरह ठीक हैं और वो कोरोना वायरस (Coronavirus) के डर से घर में छुपे हैं.

कोरोना से डरे किम!
ब्रिटिश अखबार द मिरर के मुताबिक, दक्षिण कोरिया के अखबार जून्गअंग लबो ने चीन के हवाले से खबर दी है कि किम जोंग इसलिए बाहर नहीं आ रहे हैं क्योंकि उनका बॉडिगार्ड कोरोना संक्रमण का संदिग्ध पाया गया है. दक्षिण कोरिया के एक और अखबार डॉनंग-ए-लबो ने दावा किया कि कोरोना वायरस से बचने के लिए किम जोंग प्योंगयांग से बाहर वॉनसन के एक रिजॉर्ट में ठहरे हुए हैं. रिपोर्ट में ये भी दावा किया गया है कि किम के कुछ अधिकारी कोरोना से संक्रमित हो गए हैं. कहा जा रहा है कि किम को 15 से 20 अप्रैल के बीच पैदल चलते हुए भी देखा गया.

भेजा थैंक्स मैसेज
इस बीच नॉर्थ कोरिया के सरकारी अखबार रोडोंग सिनमुन ने कहा कि किम जोंग ने बिल्डर्स को शुक्रिया कहने के लिए मैसेज भेजा है. ये बिल्डर नॉर्थ कोरिया में टूरिजम को बढ़ावा देने के लिए वॉनसैन में समुद्र के तट पर रिजॉर्ट बना रहा है. बता दें कि पिछले हफ्ते इसी शहर के पास सैटेलाइट के जरिए किम जोंग की ट्रेन देखी गई थी. किम जोंग ने 15 अप्रैल को देश के नेशनल हॉलीडे के कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लिया था, जिसके बाद उनके बीमार होने के कयास लगाए जाने लगे थे.



कोमा में होने का दावा
दो दिन पहले अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क पोस्ट ने जापानी मीडिया के हवाले से बताया था कि इलाज में देरी के चलते वो कोमा में चले गए हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उनके इलाज के लिए पहुंचे चीन के डॉक्टर की टीम ने ये बातें कही है.

ये भी पढ़ें:

कैंसर पीड़ित बहन की मदद के लिए 49 साल की महिला ने किया 2400 KM का सफर

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में आगे आया निजामुद्दीन मरकज, 200 जमाती देंगे प्लाज्मा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज