Gaza War : इज़रायल-हमास के बीच सीज़फायर, नेतन्याहू ने कहा-'हमने हासिल किया अपना लक्ष्य'

इज़राइल-हमास के बीच हुआ सीज़फायर.

इज़रायल-हमास के बीच 11 दिन चले संघर्ष के बाद सीज़फायर हो गया है. इजिप्ट की मध्यस्थता से हुए युद्धविराम के बाद गाज़ा में लोग खुश हैं. वहीं इज़रायल की ओर से हमास को चेतावनी दी गई है कि इस बात सीजफायर तोड़ा तो उसके लिए अच्छा नहीं होगा.

  • Share this:
    यरुशलम. इजरायल और फिलिस्तीनी कट्टरपंथी संगठन हमास के बीच शुरू हुए खूनी संघर्ष से मची तबाही आखिरकार शांत हो गई. 11 दिन तक इजरायल के ताबड़तोड़ हमलों के बाद गाज़ा पट्टी पर सीजफायर लागू हो गया है. युद्धविराम की खबर आते ही गाज़ा पट्टी के लोगों ने राहत की सांस ली. इजरायल और हमास के बीच चल रही लड़ाई में दोनों पक्षों को मिलाकर 200 लोगों से ज्यादा की जान गई है. गाज़ा के स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक इजरायली हमले में 243 लोगों की जान गई है. वहीं इजरायल का कहना है कि इन हमलों में उसने 200 से ज्यादा आतंकवादियों को मारा है, जिसमें 25 सीनियर कमांडर थे. इजरायल की तरफ से दागे गए रॉकेट्स में कई लोगों को अपने घर छोड़ कर सुरक्षित जगहों पर शरण लेने के लिए पलायन भी करना पड़ा. 11 दिन के इस संघर्ष में महिलाओं और बच्चों की भी जान गई है.

    इजरायली पीएम ने क्या कहा?
    इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने युद्धविराम की घोषणा करने के साथ ही गाज़ा में फिलिस्तीनी चरमपंथी संगठन हमास पर किए गए हमलों को बड़ी कामयाबी करार दिया है. हमें ऑपरेशन के जरिये अपना लक्ष्य हासिल कर लिया है. उन्होंने कहा कि हमलों के जरिये गाज़ा को नियंत्रित करने वाले इस्लामिक चरमपंथी संगठन हमास को निशाना बनाया गया था. इजरायली पीएम ने ये भी कहा कि जनता सब कुछ नहीं जानती कि इजरायल को ऑपरेशन से क्या हासिल हुआ है. हमास भी इस बात को नहीं जानता.

    इजरायली मीडिया की ओर से गुरुवार रात सीजफायर की खबर दी गई, जिसके बाद गाज़ा में लोगों ने खुशी ज़ाहिर की. अमेरिका ने भी इससे पहले इज़रायल को युद्धविराम के लिए कहा था. काफी दिनों से इजरायली पीएम बेंजामिन नेतन्याहू पर कई वैश्विक नेता गाजा में सैन्य अभियान रोकने का दबाव बना रहे थे. लेकिन इस मामले में सीधा हस्तक्षेप इज़रायल के पड़ोसी देश मिस्र ने किया. उसने ही इज़रायल को हमास के बीच युद्धविराम कराया है. सीजफायर 21 मई की सुबह से लागू हो गया है. हालांकि इज़रायल ने कहा है कि वो हालात को देखेगा. रक्षा मंत्री बेनी गैंट्ज़ ने भी साफ किया है कि हमास ने युद्धविराम तोड़ा तो उसे 'बहुत, बहुत भारी कीमत चुकानी होगी.' आपको बता दें कि इस बार हमास की ओर से इज़रायल पर कुल 4000 से भी ज्यादा रॉकेट्स दागे गए थे, जिसमें 12 इज़रायलियों की मौत हो गई.