होम /न्यूज /दुनिया /Video: प्रदर्शनकारी महिलाओं पर ईरान की पुलिस बरसा रही गोलियां, अब तक 50 की मौत

Video: प्रदर्शनकारी महिलाओं पर ईरान की पुलिस बरसा रही गोलियां, अब तक 50 की मौत

पुलिस की गोलीबारी का शिकार हुई युवती की पहचान हदीस नजफी (Hadis Najafi) के रूप में हुई जिसे प्रदर्शन के दौरान हिजाब नहीं पहना हुआ था. (Image: Twitter)

पुलिस की गोलीबारी का शिकार हुई युवती की पहचान हदीस नजफी (Hadis Najafi) के रूप में हुई जिसे प्रदर्शन के दौरान हिजाब नहीं पहना हुआ था. (Image: Twitter)

Iran Anti-Hijab Protests: सरकारी मीडिया के आंकड़ों के मुताबिक अब तक इन प्रदर्शनों में 41 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. इन ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

युवती की बहन ने एक अमेरिकी कार्यकर्ता को बताया कि बुधवार को सुरक्षा बलों की गोली लगने से उसकी मौत हो गई
ईरान में जगह-जगह हो रहे हिजाब विरोधी प्रदर्शनों में कई महिलाएं हिजाब को आग लगाती हुई दिख रही हैं
कुर्द-आबादी वाले उत्तर-पश्चिमी क्षेत्रों से शुरू हुए ये प्रदर्शन राजधानी और कम से कम 50 शहरों और कस्बों में फैल गए हैं

तेहरान. ईरान में हिजाब को लेकर हिरासत में ली गई छात्रा महसा अमिनी की मौत (Death of Mahsa Amini) के दस दिन बीत जाने के बाद भी हालात काबू में नहीं आ सके हैं. अब पुलिस की बर्बरता से हुई 20 वर्षीय युवती की मौत ने प्रदर्शनों की आग को और भड़का दिया है. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक पुलिस की गोलीबारी का शिकार हुई युवती की पहचान हदीस नजफी (Hadis Najafi) के रूप में हुई जिसने प्रदर्शन के दौरान हिजाब नहीं पहना हुआ था. युवती की बहन ने एक अमेरिकी कार्यकर्ता को बताया कि बुधवार को सुरक्षा बलों की गोली लगने से उसकी मौत हो गई. कई मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक युवती के सिर और गर्दन में 6 गोलियां मारी गई थीं. हदीस नजफी की गोली लगने के बाद की फोटो सोशल मीडिया पर दिन भर वायरल होती रही.

40 से अधिक लोगों की मौत
हिजाब के विरुद्ध लोगों में बढ़ रहे असंतोष के बाद भड़के प्रदर्शनों को रोकने के लिए पुलिस भारी बल का प्रयोग कर रही है. ईरान में जगह-जगह हो रहे हिजाब विरोधी प्रदर्शनों में कई महिलाएं हिजाब को आग लगाती हुई दिख रही हैं जिससे भड़की पुलिस लगातार प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस छोड़ रही है और फायरिंग कर रही है. सरकारी मीडिया के आंकड़ों के मुताबिक अब तक इन प्रदर्शनों में 41 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. हालांकि कई स्वतंत्र संस्थाओं का अनुमान है कि पुलिस की गोलीबारी में कम से कम 50 लोग मारे जा चुके हैं. इन प्रदर्शनों में हदीस नजफी, गजाला चेलावी, हनाना किया और माहशा मोगोई की मौत सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी रही.

नया दावा
हालांकि, ट्विटर पर BBC के एक पत्रकार ने दावा किया है कि सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा वीडियो मृतक युवती हदीस नजफी का नहीं है. BBC से बातचीत में एक युवती ने कहा कि वह इस प्रदर्शन में शामिल थी. शेयर किया जा रहा वीडियो उन्‍होंने बनाया था. आगे वीडियो में दिख रही महिला ने बहादुरी से बताया कि वह उन सभी के साथ खड़ी हैं, जिन्होंने इन प्रदर्शनों में अपनी जान दे दी.

नॉर्वे के राजदूत को भेजा समन
ईरान ने देश में हो रहे प्रदर्शनों पर लोगों का साथ देने के लिए नॉर्वे के राजदूत को उनकी संसद के अध्यक्ष मसूद घराहखानी की टिप्पणी के लिए समन भेजा है. तेहरान में पैदा हुए घराहखानी ने रविवार को ट्विटर पर लोगों का साथ देते हुए लिखा कि अगर उनके माता-पिता ने 1987 में भागने का विकल्प नहीं चुना होता, तो वह भी उन लोगों में से एक होते जो इस समय सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं. आपको बता दें कि हिजाब को लेकर ईरान के कुर्द-आबादी वाले उत्तर-पश्चिमी क्षेत्रों से शुरू हुए ये प्रदर्शन राजधानी और कम से कम 50 शहरों और कस्बों में फैल गए हैं.

Tags: Hijab, Iran

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें