Home /News /world /

Video: क्या हमास की जासूसी के लिए डॉल्फिन को ट्रेनिंग दे रहा इजराइल?

Video: क्या हमास की जासूसी के लिए डॉल्फिन को ट्रेनिंग दे रहा इजराइल?

ट्विटर पर शेयर किए गए वीडियो में एक हार्नेस दिखाया गया है. हमास का दावा है कि इसे उसने डॉल्फिन से बरामद किया है.

ट्विटर पर शेयर किए गए वीडियो में एक हार्नेस दिखाया गया है. हमास का दावा है कि इसे उसने डॉल्फिन से बरामद किया है.

साल 2015 में फिलिस्तीनी अखबार अल-कुद्स ने दावा किया था कि हमास (Hamas) ने एक डॉल्फिन (Dolphins) को हिरासत में लिया है, जिसका इस्तेमाल इजराइली नौसेना (Israel Navy) उसके सशस्त्र विंग के सदस्यों पर हमला करने के लिए कर रही थी. गाजा पट्टी के सूत्रों के हवाले से अखबार ने कहा कि इजराइली डॉल्फिन को गाजा पट्टी के तट से पकड़ा गया था.

अधिक पढ़ें ...

    तेल अवीव. जासूसी के मामले में इजराइल (Israel) का पूरी दुनिया में कोई जवाब नहीं. दुश्मन देशों की जासूसी के लिए इजराइल की एजेंसी मोसाद (Mossad) ऐसे ऐसे तरीकों का इस्तेमाल करती है, जिसकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते. जासूसी के लिए खासतौर पर डॉल्फिन का इस्तेमाल किया जाता है. इसके लिए उन्हें खासतौर पर ट्रेनिंग दी जाती है. दरअसल, चरमपंथी समूह हमास (Hamas) ने एक वीडियो पोस्ट करते हुए आरोप लगाया है कि उसके गोताखोर ने एक डॉल्फिन (Dolphins) को मार दिया, जिसे इजराइल ने ट्रेनिंग दी थी. ट्विटर पर शेयर किए गए वीडियो में एक हार्नेस दिखाया गया है. हमास का दावा है कि इसे उसने डॉल्फिन से बरामद किया है.

    रक्षा विशेषज्ञ एच आई सटन के अनुसार देखने से लगता है कि हार्नेस डॉल्फिन की नाक में फिट था. यह अमेरिका और रूसी नौसेना में इस्तेमाल किए जाने वाले हार्नेस के समान है. सटन ने कहा कि हार्नेस पर एक भाला बंदूक जैसा डिवाइस लगा हुआ है. डॉल्फिन दोस्त या दुश्मन में फर्क नहीं कर सकती. इसलिए वे घातक हमला नहीं करती. हालांकि, डॉल्फिन टारगेट मार्क करने के काम आ सकती है. हार्नेस डिवाइस इसी तरह के सिस्टम का हिस्सा हो सकता है.

    अब ISIS से भिड़ने की तैयारी में तालिबान! सेना में शामिल कर रहा आत्‍मघाती दस्‍ते

    सटन ने कहा कि ऐसे कोई सबूत नहीं है जो इस बात की पुष्टि करते हों कि हार्नेस इजराइली है या डॉल्फिन का है. हालांकि, रिपोर्ट में कुछ विश्वसनीयता है. यह इजराइल का एक नौसेना समुद्री स्तनपायी कार्यक्रम हो सकता है. एक व्यापक समुद्री स्तनपायी कार्यक्रम के रूप में रूसी नौसेना ने सीरिया के टार्टस में अपनी डॉल्फिन को तैनात किया था. लिहाजा यह थ्योरी ‘किलर डॉल्फिन्स’ की ओर इशारा करती है.

    2015 में हमास ने पकड़ी इजराइल की जासूस मछली
    साल 2015 में फिलिस्तीनी अखबार अल-कुद्स ने दावा किया था कि हमास ने एक डॉल्फिन को हिरासत में लिया है, जिसका इस्तेमाल इजराइली नौसेना उसके सशस्त्र विंग के सदस्यों पर हमला करने के लिए कर रही थी. गाजा पट्टी के सूत्रों के हवाले से अखबार ने कहा कि इजराइली डॉल्फिन को गाजा पट्टी के तट से पकड़ा गया था. हमास के नौसैनिक कमांडो ने डॉल्फिन को ‘संदिग्ध हरकत’ करते हुए देखा था.

    एलियंस की झोपड़ी नहीं, खरगोश है चांद पर खोजी गई रहस्यमयी चीज़!

    कैमरे और हथियार से लैस थी डॉल्फिन
    उन्होंने जब स्तनपायी का पीछा किया तो पाया कि पानी के नीचे की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए उसने एक उपकरण पहना हुआ था. दावा किया गया था कि हमास के गोताखोर डॉल्फिन को पकड़ने और किनारे तक ले जाने में कामयाब रहे. जांच में पाया गया कि डॉल्फिन एक रिमोट कंट्रोल मॉनिटरिंग डिवाइस और एक कैमरा से लैस था. मीडिया रिपोर्ट में कहा गया था कि डॉल्फिन का उपकरण छोटे तीर चलाने और किसी को भी मारने या गंभीर रूप से घायल करने में सक्षम था.

    Tags: Embassy of Israel, Israel, Israel attack on palestine

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर