अपना शहर चुनें

States

अमेरिकी प्रतिबंधों के बीच ईरान ने तैयार की कोरोना टेस्ट किट,1 हफ्ते में होगा 80000 किट का प्रोडक्शन

फैंस का कहना है कि खुशी से उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है (सांकेतिक फोटो )
फैंस का कहना है कि खुशी से उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है (सांकेतिक फोटो )

अमेरिका (America) के आर्थिक प्रतिबंधों के बावजूद ईरान (Iran) का कोरोनावायरस (Coronavirus) की टेस्ट किट (Test Kit) बनाने का दावा उसके लिए बड़ी कामयाबी से कम नहीं है

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 14, 2020, 7:37 PM IST
  • Share this:
कोरोनावायरस (Coronavirus) के कहर से ईरान (Iran) बुरी तरह जूझ रहा है. एक तरफ कोविड-19 (Covid19) से निपटने में जरूरी मेडिकल संसाधनों की कमी तो दूसरी तरफ अमेरिका के प्रतिबंधों से टूटती हुई अर्थव्यवस्था. लेकिन इसके बावजूद ईरान ने कोरोनावायरस के संक्रमण की जांच करने वाली किट बनाने का दावा किया है. ईरान का दावा है कि उसने अपने दम पर कोविड-19 टेस्ट किट का उत्पादन करने में कामयाब हो चुका है और वो हर सप्ताह 80 हज़ार टेस्ट किट का प्रोडक्शन कर सकेगा.

भारत में ईरान के दूतावास ने ट्वीट किया है कि, 'अमेरिका के अन्यायपूर्ण और अमानवीय प्रतिबंधों के बावजूद ईरान अपने दम पर टेस्ट किट का प्रोडक्शन करने में सक्षम हो गया है और हर हफ्ते 80000 टेस्ट किट्स का उत्पादन करेगा.'


ईरान की टेस्ट किट बनाने वाली लैब का दावा है कि टेस्ट किट अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में अपनी गुणवत्ता और सटीक जांच की वजह से तय मानक के लिहाज में कमतर नहीं है और ये टेस्ट किट केवल दो घंटे में ही संक्रमण की रिपोर्ट दे सकती है.



इससे पहले 1 अप्रैल को ईरान के पास्तूर इंस्टीट्यूट के प्रमुख अली रज़ा ने बताया था कि ईरान को कोरोना की मॉलिक्यूलर किट बनाने में कामयाबी हासिल हुई है जिसकी पुष्टि WHO ने की थी. इसके अलावा ईरान में कोरोना संक्रमण की जांच के लिए अब तक 90 टेस्ट लेबोरेट्रीज़ बनाने और हर दिन 20 हज़ार से ज्यादा टेस्ट करने का दावा किया गया था.

अमेरिका के कड़े आर्थिक प्रतिबंधों के दबाव की वजह से ईरान दूसरे देशों से कोविड 19 की टेस्ट किट खरीदने की स्थिति में नहीं है. पेरिस में मौजूद फाइनेन्शियल टास्क फोर्स ने ईरान को ब्लैक लिस्ट कर रखा है जिस वजह से ईरान दूसरे देशों को पैसा ट्रांसफर कर टेस्ट किट नहीं खरीद सकता था. ऐसे में ईरान का कोरोना संक्रमण के इलाज के लिए टेस्ट किट तैयार कर पाना बड़ी कामयाबी है.

टेस्ट किट बनाने वाली बॉयोटेक्नॉलोजी कंपनी के मुताबिक घरेलु मांग की पूर्ति के बाद ग्लोबल मार्केट में भी टेस्ट किट को एक्सपोर्ट किया जाएगा. माना जा रहा है कि 20 अप्रैल से टेस्ट किट का प्रोडक्शन शुरू हो जाएगा.

ईरान में अब तक कोरोना संक्रमण के 74 हज़ार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. जबकि 4500 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. लेकिन मंगलवार को पहली दफे ईरान में मौत की संख्या 100 से कम दर्ज हुई है. ईरान के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि पहली बार एक महीने में पिछले 24 घंटों में 98 लोगों की जान गई. जबकि इससे पहले हमेशा आंकड़ा सौ से ज्यादा का ही रहता आया है.

दुनियाभर के देशों में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है. कोरोना की वजह से 1 लाख 20 हज़ार लोगों की मौत हो चुकी है.जबकि 19 लाख 34 हज़ार लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. ऐसे में खासतौर से ईरानी सरकार के लिए टेस्ट किट की उपलब्धि इस मायने भी खास है ताकि कोरोना महामारी की वजह से अवाम और हुकूमत के बीच टूटे भरोसे के पुल की मरम्मत हो सके. दरअसल, ईरानी सरकार पर कोरोना महामारी की गंभीरता को हल्के में लेने और इसके कहर को छुपाने के आरोप लगाए गए थे. ईरान के सुप्रीम लीडर अयातुल्ला अली ख़मेनी ने ईरान के दुश्मनों पर कोरोना महामारी को बढ़ा चढ़ा कर पेश करने का आरोप लगाया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज