सऊदी अरब ने इजरायली एयरलाइंस की फ्लाइट रोकी, नहीं बताई कोई वजह

कॉन्सेप्ट इमेज.

कॉन्सेप्ट इमेज.

सऊदी अरब (Saudi Arabia) ने मंगलवार को अचानक इजरायली उड़ानों के लिए अपना हवाई क्षेत्र बंद कर दिया, जिसके कारण दुबई (Dubai) के लिए रवाना होने से पहले बेन गुरियन हवाई अड्डे पर इजरायल एयरलाइंस की उड़ान में पांच घंटे की देरी हुई.

  • Share this:

रियाद. सऊदी अरब (Saudi Arabia) ने मंगलवार को अचानक इजरायली उड़ानों के लिए अपना हवाई क्षेत्र बंद कर दिया. इसकी वजह से दुबई के लिए रवाना होने से पहले बेन गुरियन हवाई अड्डे पर इजरायल एयरलाइंस (Israel Airlines) की उड़ान में पांच घंटे की देरी हुई. फिलहाल सऊदी अरब ने इसकी कोई वजह नहीं बताई है. इजरायल की उड़ान स्थानीय समयानुसार सुबह 9 बजे उड़ान भरने वाली थी. लेकिन सऊदी अरब ने आवश्यक परमिट देने से इनकार कर दिया. बाद में अल इजरायल की फ्लाइट मंगलवार दोपहर को सऊदी हवाई क्षेत्र से उड़ान भरने की अनुमति के साथ दुबई के लिए रवाना हुई थी. सऊदी अरब ने परमिट क्यों नहीं दिया, इसकी वजह पता नहीं चल पाई है.

बहरहाल, नवंबर में, सऊदी अरब ने कहा था कि वो इजरायल की उड़ानों को दुबई के रास्ते में अपने हवाई क्षेत्र का उपयोग करने की अनुमति देंगे. लेकिन मंगलवार को तेल अवीव से दुबई की पहली उड़ान भरने के कुछ घंटे पहले यह फैसला किया गया. सऊदी अरब के ऊपर से उड़ान भरने की अनुमति के बिना तेल अवीव-दुबई मार्ग इजरायल से संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के उड़ानों के लिए मुफीद नहीं होता है. अगर सऊदी अरब के बजाय दूसरा रास्ता चुना जाए तो इजरायल से दुबई पहुंचने में तीन के बजाय आठ घंटे से अधिक का समय लगता है. इजरायल और यूएई के बीच वाणिज्यिक उड़ानें अब्राहम समझौते पर हस्ताक्षर करने के तुरंत बाद शुरू हुई थीं. इस समझौता के चलते इजरायल और यूएई के बीच रिश्ते सामान्य हो गए थे. बाद में मोरक्को और सूडान के साथ बहरीन भी ऐतिहासिक सौदे में शामिल हो गया था. इजरायल के साथ अरब देशों यूएई, मोरक्को, सूडान और बहरीन ने पिछले साल 15 सितंबर को अब्राहम समझौता किया था. हालांकि इस समझौते में सऊदी अरब शामिल नहीं था.

फिलीस्तीन-इजरायल संघर्ष

सऊदी अरब ने अपने एयरस्पेस के इस्तेमाल करने की अनुमति न देने का यह फैसला ऐसे समय किया है जब फिलिस्तीन-इजरायल के बीच 11 दिनों के संघर्ष के बाद सीजफायर का ऐलान किया गया है. सीजफायर के ऐलान के साथ ही इजरायल के लिए अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू हो गईं. ऐसा पहली बार हुआ था जब हमास के रॉकेट हमलों के बाद तेल अवीव से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें बंद करनी पड़ी थीं. इस बीच, अमेरिका की एयरलाइन कंपनियों यूनाइडेट, डेल्टा और अमेरिकन ने कहा कि इजरायल-हमास के बीच युद्धविराम पर सहमति बनने के बाद वे तेल अवीव तक अपनी उड़ान सेवाओं को फिर से शुरू कर रहे हैं. इजरायल और फिलिस्तीन के चरमपंथी गुट हमास के बीच हुए संघर्ष में तेल अवीव स्थित बेन गुरियन अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर भी रॉकेट दागे गए थे.
ये भी पढ़ें: पाकिस्तान: फ्लाइट के अंदर 'किस' कर रहा था कपल, एयर होस्टेस ने ऊपर से डाला कंबल

इजरायल जाने वाली उड़ानों को रोका

यूनाइटेड ने अमेरिका के तीन शहरों से इजरायल जाने वाली अपनी उड़ानों को 12 मई को रोक दिया था. वहीं, अमेरिकन एयरलाइंस ने कहा कि वह न्यूयॉर्क से तेल अवीव के बीच उड़ान सेवा फिर से शुरू करने की योजना बना रही है. यरुशल स्थित अल-अक्सा मस्जिद में झड़प के बाद इजरायल और फिलिस्तीन में 11 दिन संघर्ष चला. इस दौरान फिलिस्तीन के चरमपंथी गुट हमास ने रॉकेट दागे तो इजरायल ने जवाबी कार्रवाई में गाजा पट्टी पर हवाई हमले किए. इससे गाजा पट्टी में काफी नुकसान हुआ जबकि 200 से ज्यादा लोग मारे गए. इजरायल में भी 12 लोगों की जान चली गई.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज