• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • महिला संरक्षण के लिए हुई अंतरराष्ट्रीय संधि से अलग हुआ तुर्की, कहा- अपने ढंग से करेंगे काम

महिला संरक्षण के लिए हुई अंतरराष्ट्रीय संधि से अलग हुआ तुर्की, कहा- अपने ढंग से करेंगे काम

फोटो सौ. (अल जजीरा)

फोटो सौ. (अल जजीरा)

तुर्की (Turkey) के इस निर्णय को महिला-सुरक्षा (Women Protection) की दिशा में कई कदम पीछे जाने जैसा देखा जा रहा है. राष्ट्रपति अर्दोगान ने दावा किया तुर्की अपने ढंग से महिला संरक्षण पर काम करेगा. पर उनके दावे पर महिलाओं को भरोसा नहीं है.

  • Share this:
    अंकारा. महिलाओं की संरक्षण के लिए हुई अंतरराष्ट्रीय संधि से बृहस्पतिवार को तुर्की (Turkey) औपचारिक तौर पर अलग हो गया. यह संधि उसी की राजधानी में हुई थी. इसलिए इस्तांबुल संधि के नाम से भी जाना जाता है. तुर्की के अनुसार, यह संधि समलैंगिकों को सामान्य बताती है, जो उसके सामाजिक मूल्यों के खिलाफ है, इसलिए वह अलग हो रहा है. इस निर्णय को महिला-सुरक्षा (Women Protection) की दिशा में कई कदम पीछे जाने जैसा देखा जा रहा है. राष्ट्रपति रजब तैयप अर्दोगान ने दावा किया तुर्की अपने ढंग से महिला संरक्षण पर काम करेगा. पर उनके दावे पर महिलाओं को भरोसा नहीं है.

    बृस्पतिवार को सैकड़ों महिलाओं ने राजधानी सहित कई शहरों में प्रदर्शन किए. अर्दोगान ने मार्च में ही इस संधि से अलग होने की घोषणा की थी. उनका कहना है कि इस्तांबुल संधि के जरिए समलैंगिकता को सामान्य बनाने की कोशिश की जा रही है. इस्तांबुल में पुलिस की मौजूदगी के बीच हजारों महिलाओं ने प्रदर्शन किए. इसमें बड़ी संख्या में एलजीबीटी के समुदाय के सभी सदस्य भी शामिल हुए. उन्हें रोकने के लिए जब बैरिकॉडिंग की गई. इस्तिकलाल-एवेन्यू और तकसीम स्क्वायर सहित कई जगह पुलिस से संघर्ष हुआ.

    अमेरिकी सरकार में प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा, तुर्की का संधि से हटना निराशाजनक और महिलाओं के खिलाफ हिंसा खत्म करने के अंतरराष्ट्रीय प्रयासों में पीछे जाने जैसा है. एमनेस्टी तुर्की की मलिना बायम ने शर्मनाक कदम बताया.

    ये भी पढ़ें: अफगानिस्तान से सेना की वापसी शुरू, 2 दशक बाद US आर्मी ने छोड़ा बगराम एयरफील्ड

    अर्दोगान ने कहा, तुर्की में महिलाओं से हिंसा पर कार्रवाई इस्तांबुल संधि से पहले भी होती थी और बाद में भी होगी. एक एक्शन प्लान की घोषणा कर उन्होंने कहा कि न्यायिक प्रक्रिया पर पुनर्विचार किया जा रहा है. महिलाओं के संरक्षण की व्यवस्था सुधारी जा रही है. पिछले वर्ष यहां 409 महिलाओं की हत्या कर दी गई थी. इस वर्ष अब तक 190 हत्याएं हो चुकी हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज