लाइव टीवी

माइक पोम्पियो बोले-ट्रंप महाभियोग मामले में विदेश मंत्रालय करेगा कानून का पालन

भाषा
Updated: October 6, 2019, 10:12 AM IST
माइक पोम्पियो बोले-ट्रंप महाभियोग मामले में विदेश मंत्रालय करेगा कानून का पालन
पोम्पिओ ने एक प्रश्न के जवाब में कहा, ‘ निश्चित रूप से हम वह हर चीज करेंगे जिसे कानूनी रूप से करने की जरूरत होगी.’

विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ (Mike Pompeo) ने कहा कि कांग्रेस की एक समिति द्वारा मांगे गए दस्तावेज के संबंध में विदेश मंत्रालय ने कानून का पालन करने का आश्वासन दिया है.

  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ (Mike Pompeo) ने कहा है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के खिलाफ महाभियोग (Impeachment) की कार्यवाही में विदेश मंत्रालय कानून का पालन करेगा. दरअसल पोम्पिओ इस समय यूनान की यात्रा पर हैं. इस दौरान उन्होंने संवाददताताओं को बताया कि उन्होंने इस संबंध में शुक्रवार रात कांग्रेस को एक पत्र भेजा है. कांग्रेस की एक समिति द्वारा मांगे गए दस्तावेज के संबंध में विदेश मंत्रालय ने कानून का पालन करने का आश्वासन दिया है.

पोम्पिओ ने एक प्रश्न के जवाब में कहा, ‘ निश्चित रूप से हम वह हर चीज करेंगे जिसे कानूनी रूप से करने की जरूरत होगी.’ उन्होंने कहा, ‘मैं कांग्रेस का सदस्य रह चुका हूं, अनुच्छेद एक के पास कुछ निश्चित शक्तियां हैं, और अनुच्छेद दो में विदेश मंत्रालय के अधिकारियों की रक्षा सुनिश्चित करने की बात कही गई.’

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप


विदेश मंत्रालय की कर्मचारियों को परेशान किया गया

पोम्पिओ ने कहा कि कांग्रेस समिति में कई ऐसी जाचें हुई हैं जिनमें विदेश मंत्रालय की कर्मचारियों को परेशान किया गया, क्योंकि उन्होंने सीधे तौर पर कर्मचारियों से संपर्क किया और दस्तावेज मुहैया कराने की मांग की. ये दस्तावेज विदेश मंत्रालय के हैं और आधिकारिक अमेरिकी सरकार के रिकॉर्ड हैं. पोम्पिओ से जब ट्रंप के खिलाफ जांच के औचित्य के संबंध में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर इसमें राजनीति शामिल है.

गौरतलब है कि राष्ट्रपति ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की प्रक्रिया शुरू हो गई है. वहीं ट्रम्प ने उनके खिलाफ प्रतिनिधि सभा में महाभियोग की प्रक्रिया शुरू करने के लिए पेश किए गए आधार को मजाक करार दिया हैं. ट्रम्प ने इन आरोपों से साफ इनकार करते हुए कहा कि प्रतिनिधि सभा मेरे पीछे हाथ धोकर पड़ गए हैं.

महाभियोग की जांच का आधार देखने पर मजाक लगती है. महाभियोग, किसलिए? क्योंकि आपकी किसी से अच्छी बैठक या फोन पर अच्छी बातचीत हुई है? ट्रम्प ने कहा कि उन्होंने यूक्रेन पर कोई दबाव नहीं बनाया. जेलेंस्की ने भी यही दावा किया है.
Loading...

ये भी पढ़ें: 

हांगकांग में नकाब पहनने पर बैन के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन, रेल सेवाएं बंद

जलवायु परिवर्तन: नैंसी पेलोसी ने की पीएम मोदी के कदमों की तारीफ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 6, 2019, 10:12 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...