लाइव टीवी

चमत्‍कार : 20 साल पहले गई आंख की रौशनी कार एक्‍सीडेंट के बाद वापस आई

News18Hindi
Updated: February 14, 2020, 10:37 AM IST
चमत्‍कार : 20 साल पहले गई आंख की रौशनी कार एक्‍सीडेंट के बाद वापस आई
एक्‍सीडेंट के कुछ सप्‍ताह बाद जानुस्ज गोराज यह जान कर हैरान रह गए कि उन्हें पहले से ज्‍यादा साफ नजर आने लगा.

दो साल पहले सड़क पार करते समय कार से उनकी टक्कर हो गई और उनका सिर कार से टकरा गया. उस वक्‍त उन्‍हें अंदेशा नहीं था कि उनका एक्सीडेंट उनके लिए चमत्‍कार साबित होगा और वह अपनी बाईं आंख से भी देख पाएंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 14, 2020, 10:37 AM IST
  • Share this:
जीवन में अक्‍सर ऐसे भी चमत्‍कार होते हैं कि उन पर यकीन करना मुश्किल हो जाता है. पोलैंड (Poland) के एक व्‍यक्ति के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ. दरअसल, 20 साल पहले जानुस्ज गोराज की साल 2000 में एलर्जी के साइड इफेक्ट्स (Side Effects) की वजह से उनकी बाईं आंख की रोशनी चली गई थी. हालांकि 2018 में कार से हुए एक्‍सीडेंट में उनकी आंख की रौशनी दोबारा वापस आ गई.

हाल में मीडिया रिपोर्ट्स में हुई चर्चा की वजह से यह मामला सामने आया है. दरअसल, बाईं आंख की रौशनी खोने के बाद जानुस्ज गोराज अपनी दाईं आंख से ही देख पाते थे और जरूरी काम कर पाते थे, लेकिन 2018 में एक दिन सड़क पार करते हुए कार से उनकी टक्कर हो गई. इस दौरान उनका सिर कार से टकरा गया और उनके शरीर के अन्‍य अंग भी घायल हो गए. मगर उस वक्‍त उन्‍हें अंदेशा नहीं था कि उनका एक्सीडेंट उनके लिए चमत्‍कार साबित होगा और वह अपनी बाईं आंख से भी देख पाएंगे.

डॉक्‍टरों के मुताबिक चमत्कार के पीछे दवा का असर
इस एक्‍सीडेंट के बाद उन्‍हें अस्‍पताल ले जाया गया. वहां उनके कूल्हे की सर्जरी हुई और कुछ सप्‍ताह बाद वह यह जान कर हैरान रह गए कि उन्हें पहले से ज्‍यादा साफ नजर आने लगा. उन्‍होंने इस बात की चर्चा अपने डॉक्‍टर से भी की. कुछ डॉक्‍टरों का कहना था कि कूल्हे की सर्जरी के वक्त ली गई कुछ दवाओं का असर हो सकता है कि उनकी आंख पहले से बेहतर काम करने लगी. हालांकि कोई भी इस बारे में स्‍पष्‍ट नहीं बता सका कि ऐसा किस वजह से हुआ.

इस चमत्‍‍कार से मैं बहुत खुश हूं
फिलहाल गोराज इस चमत्‍कार से बेहद खुश हैं. उन्‍होंने कहा भी कि अस्‍पताल के बिस्‍तर पर लेटे-लेटे जब मुझे एहसास हुआ कि मैं बाईं आंख से भी साफ देख पा रहा हूं, तो मैं बहुत खुश हुआ. मुझे दूर सड़क पर चलते लोग भी साफ नजर आ रहे थे. यहां तक कि मैं अपने मोबाइल फोन पर मैसेज भी साफ पढ़ पा रहा था. यह वाकई चमत्कार था. उन्‍होंने कहा कि कुछ डॉक्टरों ने कहा कि वे इस चमत्‍कार की तह तक जाने के लिए स्टडी करना चाहते हैं. इसके लिए कुछ परीक्षण भी करने होंगे. हालांकि मैंने इंकार कर दिया. मैं अपने सामान्‍य जीवन में अब किसी तरह का विघ्‍न या दखल नहीं चाहता.

ये भी पढ़ें - सबसे अमीर आदमी ने वेलेंटाइन डे पर गर्लफ्रेंड को दिया ₹1200 करोड़ का तोहफा            अमेरिकी सीनेट की उम्मीदवारी के लिए भारतवंशी नेता ने 76 लाख डॉलर का चंदा जुटाया

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 14, 2020, 10:37 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर