इटली से दो साल पहले गायब हुआ था उ. कोरिया का पूर्व राजदूत, द. कोरिया में ली पनाह

उत्तर कोरिया का सुप्रीम लीडर किम जोंग उन
उत्तर कोरिया का सुप्रीम लीडर किम जोंग उन

इटली से वर्ष 2018 से गायब हुआ उत्तर कोरिया (North Korea) का एक वरिष्ठ राजनयिक छिपकर दक्षिण कोरिया (South korea) में रह रहा है. जो सोंग गिल (Jo Song Gil) इटली में उत्तर कोरिया के पूर्व राजदूत थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 6:54 PM IST
  • Share this:
प्योंगयांग. इटली से वर्ष 2018 से गायब हुआ उत्तर कोरिया (North Korea) का एक वरिष्ठ राजनयिक छिपकर दक्षिण कोरिया (South korea) में रह रहा है. जो सोंग गिल (Jo Song Gil) इटली में उत्तर कोरिया के पूर्व राजदूत Ex. Ambassador) थे. इन्होंने फिलहाल दक्षिण कोरिया में पनाह ले ली है. दक्षिण कोरिया की जासूसी एजेंसी ने देश के सांसदों को बताया है कि जो सोंग गिल ने 2018 की नवंबर में अपनी पत्नी के साथ रोम में अपना आधिकारिक निवास छोड़ दिया था और यूरोपीय देश के बाहर किसी के संरक्षण में छिप कर रहे थे. दक्षिण कोरिया के एक सांसद हा ताए-कूंग नेशनल असेंबली की खुफिया समिति के सदस्य भी है, ने फेसबुक पर लिखा है कि उत्तर कोरिया के पूर्व राजनयिक जो सोंग गिल पिछले साल दक्षिण कोरिया पहुंचे थे तब से दक्षिण कोरिया सरकार के संरक्षण में रह रहे हैं.

दक्षिण कोरिया की संसद की पहल

सांसद हा ताए-कूंग ने यह भी कहा कि मंगलवार की शाम दक्षिण कोरिया के एक टीवी स्टेशन ने 'जो सोंग गिल' के दक्षिण कोरिया में रहने की सूचना के प्रसारण के बाद बढ़े मीडिया उन्माद को रोकने के लिए उन्होंने समिति की ओर से 'जो' के आगमन की पुष्टि कर दी है. दक्षिण कोरिया ने जो से संबंधित किसी भी सूचना को नहीं देने का फैसला किया है.



देश छोड़ने का मकसद साफ़ नहीं
जो का रोम छोड़ने का मकसद अभी तक साफ़ नहीं हुआ है. उत्तर कोरिया की सरकारी मीडिया ने भी उनके संभावित दमन का कोई उल्लेख नहीं किया है.

33,000 उत्तर कोरियाई दक्षिण कोरिया भाग कर गए है

इटली में उत्तर कोरिया के पूर्व राजदूत जो सोंग गिल से पहले जो लोग दक्षिण कोरिया आये उनमें पहला नाम सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी के एक वरिष्ठ अधिकारी 'ह्वांग जंग-योप' का है जो सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी के एक वरिष्ठ अधिकारी थे. ह्वांग जंग-योप ने उत्तर कोरिया के सुप्रीम लीडर किम जोंग उन के पिता स्वर्गीय किम जोंग इल भी रहे थे.

ये भी पढ़ें: कोरोना महामारी के चलते वर्ष 2021 तक 15 करोड़ लोग अति गरीब हो जाएंगे: विश्व बैंक 

United Nations में घिरा चीन, 39 देशों ने कहा- मुस्लिमों पर जुल्म बंद करे

दूसरा नाम 2016 में यूनाइटेड किंगडम में उत्तर कोरिया के उप राजदूत 'थे योंग हो' का है जो लंदन में उत्तर कोरियाई दूतावास के एक पूर्व मंत्री के रूप कार्यरत थे. 'थे योंग हो' अपने देश उत्तर कोरिया को छोड़कर दक्षिण कोरिया में पनाह लेने वाले सबसे उच्च स्तर के राजनयिक थे. वे 2016 में सियोल आये थे और इस साल उन्हें संसद के लिए चुना गया है. राजनीतिक दमन और गरीबी से बचने के लिए 1990 के दशक के उत्तरार्ध से आज तक लगभग 33,000 उत्तर कोरियाई दक्षिण कोरिया भाग कर गए है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज