लाइव टीवी

वर्तमान मानव प्रजाति के पहले कदम धरती पर यहां पड़े थे..


Updated: October 30, 2019, 9:57 AM IST
वर्तमान मानव प्रजाति के पहले कदम धरती पर यहां पड़े थे..
वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि पृथ्वी पर हर इंसान के पूर्वजों की पहली दस्तक अफ्रीका के बोत्सवाना में दर्ज की गई थी.

दक्षिणी अफ्रीका के मूल निवासी 1,200 से अधिक लोगों के डीएनए डेटा के अध्ययन के बाद यह निष्कर्ष निकाला गया है. इस शोध में पाया गया कि मावन जाति के शुरुआती काल में 2,00,000 साल पहले इस क्षेत्र की महत्वपूर्ण भूमिका रही.

  • Last Updated: October 30, 2019, 9:57 AM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन. वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि पृथ्वी पर हर इंसान के पूर्वजों (Human Ancestors) की पहली दस्तक अफ्रीका के बोत्सवाना (Botswana Africa) में दर्ज की गई थी. उत्तरी बोत्सवाना (Northern Botswana) में फैला एक बड़ा क्षेत्र 7.7 बिलियन लोगों का उद्भव स्थल हो सकता है. वैज्ञानिकों ने अपने शोध में पाया है कि इस समय जहां रेगिस्तान और नमक के खेत हैं वही जगह कभी इंसान ने अपनी पहली आमद दी होगी

दक्षिणी अफ्रीका के मूल निवासी 1,200 से अधिक लोगों के डीएनए डेटा के अध्ययन के बाद यह निष्कर्ष निकाला गया है. इस शोध में पाया गया कि मावन जाति के शुरुआती काल में 2,00,000 साल पहले इस क्षेत्र की महत्वपूर्ण भूमिका रही. 70 हजार साल तक यहां पालन पोषण करने के बाद मानव जाति ने बाहरी दुनिया की ओर कदम बढ़ाया. यहां से शुरुआती पलायन की वजह पृथ्वी के जलवायु में परिवर्तन को माना गया है.

शोधकर्ताओं ने दावा किया कि ग्रेटर ज़ाम्बज़ी रिवर बेसिन को कवर करने वाले प्राचीन वेटलैंड्स का जन्म एक झील से हुआ. यह उम समय अफ्रीका की सबसे बड़ी झील थी. उत्तरी बोत्सवाना में ग्रेटर ज़ाम्बज़ी रिवर बेसिन के पश्चिम में नामीबिया और पूर्व में ज़िम्बाब्वे शामिल था.

मानव प्रजाति का वैज्ञानिक नाम होमो सेपियन्स है. होमो सेपियन्स दुनिया भर में अफ्रीका से ही फैले यह बात पहले से स्थापित है. अफ्रीका को वो इलाका जहां हमने पहला कदम रखा उस जगह की खोज में वैज्ञानिक लगातार लगे हुए थे. गरवन इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल रिसर्च और यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी के वेनेसा हेस ने कहा कि 'नेचर' पत्रिका में प्रकाशित इस अध्ययन से पहले हमें सटीक जगह के बारे में जानकारी नहीं थी. अब इस शोध के प्रकाशित होने के बाद यह ठीक से कहा जा सकता है कि मानव की उत्पत्ति का स्थान बोत्सवाना है.

Botswana Tribe
उत्तरी बोत्सवाना में फैला एक बड़ा क्षेत्र 7.7 बिलियन लोगों का उद्भव स्थल हो सकता है.


सबसे पुराना ज्ञात होमो सेपियन्स जीवाश्म साक्ष्य मोरक्को से मिला था. यह 3,00,000 साल पहले का है. नए अध्ययन से पता चलता है कि मोरोक्को में मिले जीवाश्म यह बताते हैं कि हमारे पूर्वजों ने अपनी प्रजाति के लोगों का साथ इतनी आसानी से नहीं छोड़ा होगा.

दक्षिण कोरिया में पुसान नेशनल यूनिवर्सिटी के कोथोर एक्सल टिम्मरमैन ने कहा, "उत्तरी अफ्रीका में मिले प्रारंभिक होमो सेपियन्स की उपस्थिति के अवशेष और दक्षिणी अफ्रीका में मिले होमो सैपियन्स की वंशावली के बीच आपस में कोई विरोधाभास नहीं है. उत्तरी अफ्रीका में मिलने वाली होमो सेपियन्स का वंश हो सकता है कि विलुप्त हो चुका हो. जबकि दक्षिणी अफ्रीका मे मिली होमो सेपियन्स की वंशावली अभी भी जीवित हैं,".
Loading...

Botswana Tribe
वैज्ञानिकों ने अपने शोध में पाया है कि इस समय जहां रेगिस्तान और नमक के खेत हैं वही जगह कभी इंसान ने अपनी पहली आमद दी होगी.


शोधकर्ताओं का मानना है कि प्राचीन झील मक्कादिकगडी लगभग 2,00,000 साल पहले बिखरना शुरू हुई थी. इसके बिखरने से बने दलदली इलाके पर मुख्य रुप से सबसे बड़े शिकारी मानव का ही कब्जा था.

टिम्मरमैन के मुताबिक यह आज के ओकावांगो डेल्टा क्षेत्र के एक बड़े विशालकाय रुप में समझा जा सकता है. टिम्मरमन ने कहा कि हर 21000 साल में पृथ्वी की धुरी और कक्षा में परिवर्तन करती है. इस परिवर्तन से जलवायु, वर्षा और वनस्पति में बदलाव स्वाभाविक है. इसी बदलाव की वजह से हुए जलवायु परिवर्तन ने हमारे पूर्वजों को अपनी मातृभूमि छोड़ पृथ्वी के दूसरे हिस्सों में जाने को मजबूर किया.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 30, 2019, 9:57 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...