मोदी ने कश्मीर पर पुतिन के समर्थन पर जताया आभार, बोले- पाक चलाता है दुष्प्रचार का एजेंडा

विदेश सचिव विजय गोखले ने कहा कि रूस के सुदूर पूर्वी पत्तन शहर व्लाडीवोस्टक में राष्ट्रपति पुतिन के साथ अपनी शिखर वार्ता के दौरान, प्रधानमंत्री मोदी ने जम्मू कश्मीर के विशेष राज्य का दर्जा समाप्त किये जाने का मुद्दा स्वयं अपनी तरफ से उठाया.

News18Hindi
Updated: September 4, 2019, 9:33 PM IST
मोदी ने कश्मीर पर पुतिन के समर्थन पर जताया आभार, बोले- पाक चलाता है दुष्प्रचार का एजेंडा
व्लाडीवोस्टक में मोदी-पुतिन की संयुक्त बयान
News18Hindi
Updated: September 4, 2019, 9:33 PM IST
व्लाडीवोस्टक. जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) पर भारत के कदम का समर्थन करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) ने रूस के राष्ट्रपति (Russian President) व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) का आभार जताया है. पीएम मोदी ने रूस के इस सहयोग पर धन्यवाद दिया. साथ मोदी ने जम्मू-कश्मीर पर भारत सरकार के अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाने के पीछे के औचित्य से भी पुतिन को अवगत कराया. प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति पुतिन से वार्ता के दौरान इस बात का भी जिक्र किया कि किस तरह कश्मीर को लेकर पाकिस्तान दुष्प्रचार (Pakistan Propaganda on Kashmir) का अपना एजेंडा चला रहा है.

विदेश सचिव विजय गोखले ने प्रधानमंत्री मोदी और रूसी राष्ट्रपति पुतिन के बीच हुई वार्ता की जानकारी साझा की. उन्होंने कहा कि रूस के सुदूर पूर्वी पत्तन शहर व्लाडीवोस्टक में राष्ट्रपति पुतिन के साथ अपनी शिखर वार्ता के दौरान, प्रधानमंत्री मोदी ने जम्मू कश्मीर के विशेष राज्य का दर्जा समाप्त किये जाने का मुद्दा स्वयं अपनी तरफ से उठाया.

India, Russia, Prime Minister Narendra Modi, President Vladimir Putin, Jammu and Kashmir
विदेश सचिव विजय गोखले ने व्लाडीवोस्टक में मोदी-पुतिन वार्ता की जानकारी साझा की.


मोदी ने बताया कश्मीर फैसले का औचित्य

गोखले ने एक ब्रीफिंग के दौरान कश्मीर मुद्दे पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा कि प्रधानमंत्री ने अपनी सरकार के फैसले के पीछे की जरूरत को समझाया. प्रधानमंत्री ने कश्मीर मुद्दे पर स्पष्ट संदेश देने के लिए पुतिन को धन्यवाद भी दिया. गौरतलब है कि हाल ही में संयुक्त राष्ट्र संघ के सुरक्षा परिषद में चीन और पाकिस्तान द्वारा जम्मू-कश्मीर के मसले को उठाया था.

सुरक्षा परिषद से हस्तक्षेप की गुजारिश
चीन और पाकिस्तान ने कश्मीर मसले पर सुरक्षा परिषद के सदस्य देशों से हस्तक्षेप करने की गुजारिश भी की थी. हालांकि रूस ने उसी दौरान स्पष्ट किया था कि जम्मू कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच एक द्विपक्षीय मामला है और इसमें किसी तीसरे पक्ष के लिए कोई जगह नहीं है. राष्ट्रपति पुतिन के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत और रूस दोनों किसी भी देश से संबंधित मामलों में बाहरी हस्तक्षेप के खिलाफ हैं.
Loading...

बाद में जारी एक संयुक्त बयान में कहा गया है कि भारत और रूस ने अंतरराष्ट्रीय कानून के महत्व  को रेखांकित किया और संयुक्त राष्ट्र चार्टर में उल्लेखित उद्देश्यों और सिद्धांतों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता पर जोर दिया. उल्लेखनीय है कि भारत द्वारा जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा अनुच्छेद 370 वापस लेने और इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया है.

ये भी पढ़ें: 

पुतिन बोले- भारत में बनाएंगे राइफल-मिसाइल सिस्टम, PM मोदी ने कही ये बात

आखिर झुक ही गया चीन! वापस लिया ये कानून, भारत समेत दुनियाभर के शेयर बाजार में बड़ा उछाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2019, 7:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...