लाइव टीवी

कोरोनावायरस: दुनिया भर में 9,800 मामले, 213 लोगों की मौत, WHO ने ग्लोबल इमरजेंसी घोषित की

भाषा
Updated: February 1, 2020, 12:30 PM IST
कोरोनावायरस: दुनिया भर में 9,800 मामले, 213 लोगों की मौत, WHO ने ग्लोबल इमरजेंसी घोषित की
धीमी कार्रवाई के चलते कोरोना वायरससंक्रमण की स्थिति इतनी बिगड़ी: चीनी अधिकारी

चीन (China) में फैले कोरोनावायरस (Coronavirus) से अब तक लगभग 213 लोगों की मौत हो चुकी है और दुनियाभर में 9800 से ज्‍यादा लोग संक्रमित हैं.

  • Share this:
बैंकाक/लंदन. चीन से फैले कोरोना वायरस (CoronaVirus) से दुनिया भर में 9,800 से ज़्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं. चीन ने शुक्रवार शाम तक मुख्य भूमि में 9,692 मामलों की पुष्टि की है. इसके अलावा हांगकांग में 12 और मकाऊ में पांच मामले सामने आए हैं. इस वायरस से 213 लोगों की मौत हुई है, जिसमें अधिकतर मौतें चीन के हुबेई प्रांत में हुई हैं. इसी प्रांत में दिसंबर में नए तरीके के कोरोना वायरस का पता चला था.

अलग- अलग देशों में कोरोना वायरस के मामले इस प्रकार हैं:-

थाईलैंड : 19
जापान : 16



सिंगापुर : 16
ताईवान : 9
मलेशिया : 8
ऑस्ट्रेलिया: 8
दक्षिण कोरिया : 11
फ्रांस : 6
वियतनाम: 5
अमेरिका : 6
जर्मनी : 6
कनाडा : 3
संयुक्त अरब अमीरात : 4
रूस: 2
ईटली: 2
इंग्लैंड : 2
भारत : 1
फिलीपींस: 1
फिनलैंड : 1
नेपाल: 1
कंबोडिया: 1
श्रीलंका : 1

कोरोनावायरस: WHO ने ग्लोबल इमरजेंसी घोषित की
चीन में कोरोनावायरस प्रकोप से मरने वालों की संख्या बढ़ कर 213 पर पहुंच गई है और संक्रमण की चपेट में आने वालों की संख्या 9,692 हो गई है. सरकार की तरफ से शुक्रवार को दी गई जानकारी के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन/डब्ल्यूएचओ (WHO) ने भारत समेत दुनिया के एक दर्जन से ज्यादा देशों में फैले खतरनाक कोरोना वायरस को वैश्विक स्वास्थ्य आपदा घोषित कर दिया है.

अकेले हुबेई में 43 मौतें
चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि प्रकोप का केंद्र माने जा रहे अकेले हुबेई में हुई 43 मौतों के साथ मृतकों की संख्या 213 पर पहुंच गई है. इनमें ज्यादातर बुजुर्ग लोग शामिल हैं. साथ ही उन्होंने बताया कि 1,982 नये मामलों की पुष्टि हुई है जिससे कुल संख्या 9,692 हो गई है.

भारत, ब्रिटेन, अमेरिका, दक्षिण कोरिया, जापान और फ्रांस समेत करीब 20 देशों ने चीन से आने वाले यात्रियों में विषाणु की पुष्टि की है. गुरुवार को जिनेवा में आपात बैठक बुला कर डब्ल्यूएचओ ने इस प्रकोप को वैश्विक स्वास्थ्य आपदा घोषित किया. यह दुर्लभ स्थिति जिसमें बीमारी से निपटने में अधिक अंतरराष्ट्रीय समन्वय को बढ़ाने के लिए जरूरत पड़ती है.

कमजोर स्‍वास्‍थ्‍य तंत्र वाले देशों को लेकर हम चिंतित: WHO
विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख तेदरोस अदहानोम गेब्रेयेसस ने कहा, 'हमारी सबसे बड़ी चिंता विषाणु के उन देशों में फैलने की आशंका को लेकर है जहां स्वास्थ्य तंत्र कमजोर है.' उन्होंने इस वायरस को अंतरराष्ट्रीय चिंता की जन स्वास्थ्य आपदा (पीएचईआईसी) घोषित किया.

डब्ल्यूएचओ की घोषणा पर प्रतिक्रिया देते हुए चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने प्रेस को दिए बयान में कहा, 'कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप के बाद से, चीन की सरकार लोगों के स्वास्थ्य की जिम्मेदारी का अहसास करते हुए अधिक समावेशी और कठिन बचाव एवं नियंत्रण कदम उठा रही है.''कोरोनावायरस में जीतने में हम सक्षम'

उन्होंने कहा इनमें से कई कदम अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य नियमनों की जरूरत से काफी बेहतर हैं. प्रवक्ता ने कहा, 'हमारे पास इस महामारी से लड़ाई जीतने का पूर्ण विश्वास एवं क्षमता है.' उन्होंने कहा कि साथ ही चीन ने अन्य सभी को सूचित किया और समय रहते पूरे खुलेपन, पारदर्शिता और जिम्मेदार नजरिए के साथ कोरोना वायरस के जीनोम अनुक्रम को साझा किया है. हुआ ने कहा कि चीन डब्ल्यूएचओ के साथ करीब से संपर्क एवं सहयोग में है.

ये भी पढ़ें: कोरोनावायरस: चीन से आज रात लौटेंगे 300 छात्र, सेना ने मानेसर में बनाए विशेष वार्ड

ये भी पढ़ें: Coronavirus: तेजी से फैल रहा कोरोना वायरस, ब्रिटेन में सामने आए 2 मामले

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चीन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 31, 2020, 9:57 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर