2040 तक हर साल 1.5 करोड़ से ज्यादा लोग होंगे कैंसर की चपेट मेंः रिसर्च

यूएनएसडब्ल्यू की रिसर्चर ब्रुक विल्सन के मुताबिक दुनियाभर में बढ़ रहा कैंसर का खतरा सबसे बड़ी मुसीबत है.

News18Hindi
Updated: May 14, 2019, 6:13 AM IST
2040 तक हर साल 1.5 करोड़ से ज्यादा लोग होंगे कैंसर की चपेट मेंः रिसर्च
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18Hindi
Updated: May 14, 2019, 6:13 AM IST
साल 2040 तक दुनियाभर में हर साल 1.5 करोड़ से ज्यादा लोगों को कीमोथैरेपी की जरूरत पड़ेगी. निम्न और मध्यम आमदनी वाले देशों में कैंसर के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए इलाज करने वाले करीब एक लाख कैंसर डॉक्टरों की भी ज़रूरत होगी. एक नई स्टडी में यह दावा किया गया है.

प्रतिष्ठित पत्रिका ‘‘लांसेट ऑन्कोलॉजी’’ में हाल में प्रकाशित एक अध्ययन में कहा गया है कि 2018 से 2040 तक दुनियाभर में हर साल कीमोथैरेपी कराने वाले मरीजों की संख्या में 53 फीसदी का इज़ाफा होगा और इसकी संख्या 98 लाख से बढ़कर 1.5 करोड़ हो जाएगी.



राष्ट्रीय, क्षेत्रीय और वैश्विक स्तर पर कीमोथैरपी के लिए पहली बार अध्ययन में इस तरह का आकलन किया गया है. सिडनी में यूनिवर्सिटी ऑफ न्यू साउथ वेल्स, ऑस्ट्रेलिया के इंगहैम इन्स्टीट्यूट फॉर अप्लाइड मेडिकल रिसर्च, किंगहार्न कैंसर सेंटर, लीवरपूल कैंसर थैरेपी सेंटर और इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर, लिओन के रिसर्चर ने स्टडी के दौरान ऐसा पाया.

यूएनएसडब्ल्यू की रिसर्चर ब्रुक विल्सन के मुताबिक दुनिया भर में बढ़ रहा कैंसर का खतरा सबसे बड़ी मुसीबत है. उन्होंने कहा कि मौजूदा और भविष्य के मरीजों के सुरक्षित इलाज के लिए वैश्विक स्तर काम करने वालों को तैयार करने के लिए तुरंत रणनीति बनाने की ज़रूरत है.

'शूर्पणखा' से 'जल्लाद' तक कुछ ऐसी है बिहारी नेताओं की जुबान
यह पढ़ें- महाकाल से प्रियंका गांधी ने क्या मांगा, मिला ये जवाब...
जेल में बंद लालू प्रसाद ने 'छोटे भाई' नीतीश को लिखी चिट्ठी
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार