चीन में ढहाई गई मस्जिद, ईद के मौके पर भी पसरा रहा सन्नाटा

चीन के शिनजियांग में मस्जिद ढहाए जाने की घटना के बाद मातम पसरा हुआ है. जहां पहले ईद के मौके पर हेयितका मस्जिद के आसपास रौनक छाई रहती थी, आज वो जगह वीरान हो चुकी है.

News18Hindi
Updated: June 5, 2019, 7:32 PM IST
चीन में ढहाई गई मस्जिद, ईद के मौके पर भी पसरा रहा सन्नाटा
चीन में ढहाई गई मस्जिद, रमज़ान के मौके पर भी छाया रहा सन्नाटा
News18Hindi
Updated: June 5, 2019, 7:32 PM IST
चीन के शिनजियांग में कुछ दिनों पहले मस्जिद ढहाए जाने की घटना के बाद मातम पसरा हुआ है. जहां पहले ईद के मौके पर हेयितका मस्जिद के आसपास रौनक छाई रहती थी, आज वो जगह वीरान हो चुकी है. दुनियाभर में धूमधाम से मनाए जा रहे ईद के दिन भी वहां मौजूद सुरक्षाबल की वजह से उइगुर और अन्य अल्पसंख्यक समुदाय डर के साए में जीने के लिए मजबूर हैं.

होतन शहर की सरकारी स्कूल की दीवार पर लाल रंग से लिखा गया है 'पार्टी के लिए लोगों को शिक्षित करें'. इस स्कूल में बच्चों को प्रवेश करने के लिए भी अपना चेहरा स्कैन करवाना पड़ता है. सैटेलाइट से मिली तस्वीर के मुताबिक साल 2017 से अबतक वहां करीब 36 से भी ज्यादा मस्जिदों और धार्मिक स्थलों को गिराया जा चुका है. जो मस्जिद सुरक्षित हैं, वहां जाने के लिए लोगों को मेटल डिटेक्टर और कई तरह के सुरक्षा इंतजाम से गुजरना पड़ता है. मस्जिद के अंदर चारो तरफ सर्विलांस कैमरे लगे हुए हैं जिससे उनपर निगरानी रखी जाती है.

ईद की नमाज़ यहीं पढ़ी जाती थी

बुधवार को ईद-उल-फितर के मौके पर चीन के सबसे बड़े मस्जिद ईदगाह में भारी मात्रा में सुरक्षाबल मौजूद रहे जो हर आने-जाने वालों पर कड़ी नजर रख रहे थे.इस मस्जिद में लोगों के प्रवेश के लिए प्रशासन ने मंजूरी दे रखी है.आसपास की सड़कों और इमारतों में भी सादी वर्दी में सुरक्षाकर्मी मौजूद रहे. वहीं शिनजियांग में इस बार भी रमजान पर कोई रौनक नहीं दिखी.

चीन के होतन में सूर्यास्त के बाद भी मस्जिद सुनसान पड़ी रही. यहां दिन में केवल 100 लोग ही नमाज पढ़ने आए जिनमें ज्यादातर बुजुर्ग मुसलमान थे. चीन के ला त्रोबे विश्वविद्यालय में जातीय समुदाय और नीति के विशेषज्ञ जेम्स लीबोल्ड का कहना है कि यहां सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी धर्म को खतरा मानती है. लंबे समय से यहां सरकार चीनी समाज को धर्मनिरपेक्ष बनाना चाहती है.

चीन की सरकार ने दी है सफाई 

शिनजियांग सरकार ने कहा है कि वह धार्मिक स्वतंत्रता की रक्षा करती है और नागरिक कानून की सीमा के दायरे में रहते हुए रमजान मना सकते हैं. हमले की आशंका की वजह से सरकार ने पूरे क्षेत्र में कैमरे लगा रखे हैं. मोबाइल पुलिस थाने और जगह-जगह जांच चौकियां बनाई गई है.
Loading...

आकड़ों के मुताबिक दस लाख उइगुर मुसलमान और तुर्की लोगों को अस्थायी शिविरों में रखा गया है. शुरुआत में चीनी प्रशासन उनकी मौजूदगी से इनकार कर रही थी. लेकिन पिछले साल चीन ने माना कि वे व्यावसायिक शिक्षा केंद्र चला रहे हैं, जिसका मकसद है कि लोग मंदारिन और चीनी कानूनों से वाकिफ होकर धार्मिक चरमपंथ का रास्ता त्याग दें.

शिनजियांग सरकार ने कहा कि लोगों को धार्मिक गतिविधियों की इजाजत नहीं दी गई क्योंकि चीनी कानून शैक्षिक केंद्रों में इस पर रोक लगाते हैं, लेकिन सप्ताहांत में वापसी पर उन्हें ऐसा करने की इजाजत होगी.

ये भी पढ़ें:
ईद के मौके पर पाकिस्तान का भारत के लिए बड़ा ऐलान! हटाई ये पाबंदी
PAK के मंत्री ने ईद के चांद पर मौलानाओं को लगाई फटकार
First published: June 5, 2019, 7:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...