फ्रांस में मस्जिद पर लगा ताला, राष्ट्रपति मैक्रों का कई देशों में हो रहा विरोध

फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ बांग्लादेश में निकाली गई रैली. फोटो: AP
फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ बांग्लादेश में निकाली गई रैली. फोटो: AP

फ्रांस प्रशासन ने इस्लामिक कट्टरपंथ (Islamic Fundamentalist) के खिलाफ कदम उठाना शुरू कर दिया है. इस दिशा में पहल करते हुए पैन्टिन (Pantene Mosque Locked) पर ताला लगा दिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 27, 2020, 7:02 PM IST
  • Share this:
पेरिस. फ्रांस और तुर्की के बीच तनाव अपने चरम पर है. इसके बावजूद फ्रांस प्रशासन ने इस्लामिक कट्टरपंथ (Islamic Fundamentalist) के खिलाफ कदम उठाना शुरू कर दिया है. इस दिशा में पहल करते हुए पैन्टिन (Pantene Mosque Locked) पर ताला लगा दिया गया है. इस मस्जिद पर एक नोटिस लगा दिया गया है. इस नोटि​स पर यह लिखा गया कि सरकार की तरफ से इस्‍लामिक गतिविधियों में शामिल होने की वजह से इसे बंद कर दिया गया है. फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुएल मैक्रों (President Emmanuel Macron) ने अपने बयान में कट्टरपंथी इस्लाम की आलोचना की थी और शिक्षक की हत्या को 'इस्लामिक आतंकवादी हमला' कहा था.

पूरी दुनिया में राष्ट्रपति मैक्रों का विरोध हुआ शुरू

बांग्लादेश की राजधानी ढाका में करीब 10 हजार से ज्यादा लोग रैली में शामिल हुए. कई अरब देशों ने फ़्रांस के सामानों का बहिष्कार करना शुरू कर दिया है. कुवैत, जॉर्डन और क़तर की कुछ दुकानों से फ़्रांस के सामान हटा दिए गए हैं. वहीं लीबिया, सीरिया और ग़ज़ा पट्टी में फ़्रांस के ख़िलाफ़ प्रदर्शन हुए हैं. फ़्रांस के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि 'बहिष्कार की बेबुनियाद' बातें अल्पसंख्यक समुदाय का सिर्फ़ एक कट्टर तबक़ा ही कर रहा है.



शिक्षक की हत्या के बाद राष्ट्रपति मैक्रों ने दिया बयान
फ्रांस में पिछले दिनों एक इतिहास के शिक्षक की गला रेत कर हत्या कर दी. शिक्षक ने स्कूल में बच्चों को पैगंबर का एक कार्टून दिखाया था. उसके बाद 16 अक्‍टूबर को शिक्षक का स्कूल के बाहर बेदर्दी से हत्या कर दी गई थी. इस घटना को राष्‍ट्रपति इमैुनएल मैंक्रो ने इस्लामिक कट्टर आतंकवाद बताया था. मैंक्रो ने कहा था कि अब वो लोग डर के साए में रहेंगे जो फ्रांस की जनता को डराकर रखना चाहते हैं.

ये भी पढ़ें: PHOTOS: पोलैंड में गर्भपात कराना हुआ बैन, विरोध में सड़कों पर उतरीं महिलाएं

पाकिस्तान के इकराम टुड्डियों से खेलते हैं स्नूकर, फोटो देख रह जाएंगे दंग  

फ्रांस सरकार ने शिक्षक की हत्या के बाद करीब 120 लोगों के घरों की तलाशी ली. उस संगठन को खत्‍म कर दिया जिस पर इस्‍लामिक गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगा, सरकार अब आतंकियों को मिलने वाली वित्‍तीय सहायता के बारे में जानकारी हासिल कर ली है. फ्रांस साल 2015 से आतंकवाद को झेल रहा है. हालांकि विदेशी मामलों के विश्‍लेषकों की मानें तो इस बार जो भी हो रहा है, वह पहले कभी नहीं हुआ.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज