श्रीलंका धमाकों में 'मदर ऑफ साटन' का हुआ था प्रयोग

जांचकर्ताओं ने बताया कि आईएस आतंकियों की मदद से बनाया गया था विस्फोटक

News18Hindi
Updated: May 21, 2019, 10:27 PM IST
श्रीलंका धमाकों में 'मदर ऑफ साटन' का हुआ था प्रयोग
ट्रायासेटॉन ट्रीपरऑक्साइड के मिक्सचर से बनाए जाने वाले विस्फोटक को आईएस के आतंकी मदर ऑप साटन कहते हैं. इसे बनाना काफी आसान होता है लेकिन यह काफी खतरनाक होता है.
News18Hindi
Updated: May 21, 2019, 10:27 PM IST
श्रीलंका में हुए स‌िलसिलेवार धमाकों क एक माह बाद अब जांचकर्ताओं ने दावा किया है कि आतंकियों ने धमाकों के लिए मदर ऑफ साटन नामक एक्सप्लोजिव का प्रयोग किया था. यह विस्फोटक इस्लामिक स्टेट आतंकी समूह सबसे ज्यादा प्रयोग में लेता है. जिससे यह स्पष्ट हो गया है कि धमाकों में विदेशी आतंकी समूहों का भी हाथा था. जांचकर्ताओं ने बाताया कि अप्रैल 21 को हुए धमाकों में श्रीलंका में ही मौजूद आतंकियों ने विस्फोटकों का निर्माण किया लेकिन इसमें आईएस की तकनीक और मदद मिली थी.

क्या है मदर ऑफ साटन


ट्रायासेटॉन ट्रीपरऑक्साइड के मिक्सचर से बनाए जाने वाले विस्फोटक को आईएस के आतंकी मदर ऑप साटन कहते हैं. इसे बनाना काफी आसान होता है लेकिन यह काफी खतरनाक होता है. जांच में शामिल एक अधिकारी ने बताया कि इस विस्फोटक को बनाने के लिए कुछ कैमिकल और फर्टीलाइजर की जरूरत होती है जो आसानी से उपलब्‍ध है. इसी विस्फोटक का इस्तेमाल पेरिस में 2015 और इंग्लैंड में 2017 और एक साल पहले इंडोनेशिया में आतंकी हमले के दौरान आतंकियों ने किया था.

आईएस का दावा

आईएस ने दावा किया था कि श्रीलंका के आतंकियों ने उनकी फ्रेंचाइजी के तौर पर काम किया था. लेकिन श्रीलंका और अंतरराष्ट्रीय जांचकर्ता यह जानना चाहते हैं कि इन हमलों में कितनी और किस तरह की विदेशी मदद ली गई थी. श्रीलंका के जांचकर्ताओं के अनुसार नेशनल तौहीथ जमात नामक आतंकी समूह जिसने इस वारदात को अंजाम दिया उसको बाहरी मदद जरूर मिली थी. क्योंकि इतने घातक बम बनाने के लिए उन्हें तकनीक की जरूरत थी.

ये भी पढ़ें- बर्बादी की कगार पर पाकिस्तान, कभी भी ध्वस्त हो सकता है सारा सिस्टम

जानिए कितनी धूर्त और मक्कार है पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई
Loading...

साइबर-स्पेस की सुरक्षा और दुश्मनों पर सर्जिकल स्ट्राइक करेगा सेना का ये ख़ास दस्ता

क्या टूटने जा रहा है पाकिस्तान, सेना है हैरान परेशान

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...