लाइव टीवी

पाकिस्तान के इस नेता ने कहा- मोदी जी मुझे भारत में शरण दे दो

News18Hindi
Updated: November 17, 2019, 10:54 AM IST
पाकिस्तान के इस नेता ने कहा- मोदी जी मुझे भारत में शरण दे दो
मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट के नेता अल्ताफ हुसैन

अल्ताफ हुसैन (Altaf Hussain) 27 साल पहले पाकिस्तान से भागकर लंदन आ गए थे. वहीं से वो अपनी पार्टी मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट कंट्रोल करते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 17, 2019, 10:54 AM IST
  • Share this:
लंदन. इंग्लैंड में निर्वासित जीवन जी रहे पाकिस्तानी नेता और मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट (MQM) के प्रमुख अल्ताफ हुसैन (Altaf Hussain) ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मदद मांगी है. उन्होंने पीएम मोदी से कहा है कि वो उन्हें भारत में शरण देने या फिर आर्थिक मदद की मांग की है. पाकिस्तान में आतंकवादी गतिविधियों के आरोपी अल्ताफ हुसैन इन दिनों लंदन में रह रहे हैं.

'भारत आना चाहता हूं'
पाकिस्तानी टीवी चैनल जियो टीवी के मुताबिक, जमानत में छूट मिलने के बाद पहली बार भाषण देने पहुंचे अल्ताफ हुसैन ने कहा कि वो भारत जाना चाहते हैं, जहां उनके पूर्वज रहे हैं. उन्होंने कहा, 'अगर पीएम मोदी मुझे भारत आने की इजाजत देते हैं और वहां शरण मिलती है तो फिर मैं अपने साथियों के साथ वहां पहुंच जाऊंगा, क्योंकि मेरे दादा को वहीं दफनाया गया है. इसके अलावा मेरे हज़ारों रिश्तेदारों को भी वहीं दफनाया गया है. मैं भारत में उनके मज़ार पर जाना चाहता हूं.'

ओवैसी को भी दी सलाह

अल्ताफ हुसैन ने ये भी कहा कि अगर पीएम मोदी मुझे भारत में शरण देने का जोखिम नहीं उठा सकते हैं तो फिर कम से कम वो मुझे पैसों से मदद कर दे. उन्होंने AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी पर निशाने साधते हुए कहा कि अगर उन्हें भारत पसंद नहीं है तो फिर वो पाकिस्तान चले जाएं.

 अल्ताफ हुसैन क्यों भागा पाकिस्तान से?
अल्ताफ हुसैन 27 साल पहले पाकिस्तान से भागकर लंदन आ गए थे. वहीं से वो अपनी पार्टी मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट कंट्रोल करते हैं. 1992 में तत्कालीन प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो ने सेना भेजकर कराची में एमक्यूएम और उसके नेताओं को जमकर ठिकाने लगाया. माना जाता है कि उन दिनों कराची में हजारों लोग मारे गए. 1992 में अल्‍ताफ हुसैन पाकिस्‍तान में अपनी जान को खतरा बताते हुए ब्रिटेन चले गए. 2002 में उनको ब्रिटिश नागरिकता मिल गई. इस शख्स पर एक दो नहीं बल्कि पाकिस्तान में 3576 मामले चल रहे हैं. 2014 में उन्हें एक हत्या के मामले में लंदन में गिरफ्तार किया गया, लेकिन तीसरे दिन ही रिहाई हो गई. कुछ लोग अल्ताफ हुसैन को पीर भी मानते हैं.ये भी पढ़ें:

प्रेमिका से मिलने पहुंचे युवक को महिलाओं ने दबोचा, फिर पीट-पीट कर मार डाला

इस महिला पुलिस अधिकारी ने करा लिया मुंडन, वजह जानकर आप भी करेंगे तारीफ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 17, 2019, 9:51 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर