क्या US चुनाव से एक दिन पहले धरती से टकराएगा उल्का पिंड? NASA ने ये कहा...

क्या US चुनाव से एक दिन पहले धरती से टकराएगा उल्का पिंड? NASA ने ये कहा...
धरती की तरफ आ रहा है उल्का पिंड

Asteroid 2018vp1: स्पेस एजेंसी NASA ने स्पष्ट किया है की ऐस्टरॉइड 2018VP1 का आकार बेहद छोटा है और अगर ये धरती से टकराया भी तो वायुमंडल में प्रवेश के दौरान ही जलकर राख हो जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 26, 2020, 8:45 AM IST
  • Share this:
वाशिंगटन. अमेरिका(US) में 3 नवंबर को राष्ट्रपति पद (US presidential elections 2020) के लिए चुनाव होने हैं और इसके लिए जोरो-शोरों से तैयारियां भी शुरू हो गयी है. कुछ दिन पहले इस तरह के दावे किये गए थे कि चुनावों से एक दिन पहले यानी 2 नवंबर को धरती से एक छोटा ऐस्टरॉइड (Asteroid) टकराने वाला है. हालांकि अब दावे को लेकर अब अमेरिकी स्पेस एजेंसी NASA की तरफ से आधिकारिक बयान जारी कर दिया गया है.

CNN के मुताबिक स्पेस एजेंसी NASA ने साफ किया है कि इस टक्कर की आशंकाएं बेहद कम हैं. इसके आलावा अगर गुरुत्वाकर्षण या अन्य कारकों के चलते अगर ये टक्कर होती भी है तो इससे धरती को नुकसान होने की कोई आशंका नहीं है. NASA ने ट्वीट कर बताया है कि ऐस्टरॉइड 2018VP1 बेहद छोटा है. इसका आकार करीब 6.5 फीट बड़ा है और इससे धरती को कोई खतरा नहीं है. इसके धरती के वायुमंडल में इसके दाखिल होने की संभावना 0.41% है लेकिन अगर यह दाखिल होता भी है तो भी इससे नुकसान की आशंका बेहद कम है, ऐसा इसलिए है क्योंकि छोटे आकार की वजह से यह वायुमंडल में दाखिल होने के साथ ही टूटकर जल जाएगा.






'ऐसे ऐस्टरॉइड रोज आते-जाते हैं'
NASA ने बताया की 2018VP1 Apollo ऐस्टरॉइड की श्रेणी में आता है, ये बेहद छोटा है और नुकसान करने लायक तो बिलकुल नहीं है. ये धरती के पास मौजूद ऐसे ऐस्टरॉइड होते हैं जिनका ऑर्बिट (कक्षा) धरती से बड़ा होता है लेकिन ये फिर भी धरती की कक्षा में आ जाते हैं. ऐसा पहला ऐस्टरॉइड Apollo 1862 में खोजा गया था. NASA का कहना है कि धरती पर हर रोज ऐसी टनों धूल गिरती है और 2018VP1 के आकार के ऐस्टरॉइड कोई भी नुकसान पहुंचाने के लिए बेहद छोटे हैं. NASA की Sentry Risk Table में ऐसे खतरनाक Asteroids पर नजर रखी जाती है ताकि भविष्य में इनसे होने वाले खतरे से बचा जा सके.

स्पेस एजेंसी ने कहा की पहले भी कई बार आपने ऐसे छोटे उल्का पिंडों को वायुमंडल में दाखिल होने के बाद जलकर गिरते देखा होगा. NASA ने बताया की इस ऐस्टरॉइड की खोज 2018 में कैलिफॉर्निया की पालोमर ऑब्जर्वेटरी में की गई थी. इसके छोटे आकार की वजह से इसे Potentially Hazardous Objects की लिस्ट में नहीं रखा गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज