इतिहास में पहली बार सूरज को छूने NASA ने भेजा अंतरिक्ष यान

नासा ने रविवाकृ को 'टच सच' वाली ऐतिहासिक छोटी कार के आकार के यान को लॉन्च कर दिया.

News18Hindi
Updated: August 12, 2018, 2:36 PM IST
इतिहास में पहली बार सूरज को छूने NASA ने भेजा अंतरिक्ष यान
सोलर प्रोब के लॉन्च की तस्वीर - NASA
News18Hindi
Updated: August 12, 2018, 2:36 PM IST
अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने सूरज को छूने (टच द सन) के अनोखे मिशन पर पहली बार एक छोटी कारनुमा यान 'पार्कर सोलर प्रोब' लॉन्च किया. यह यान सूर्य के वातावरण या कोरोना में जाने के लिए डिजाइन किया गया है. इतिहास में अब कोई भी अंतरिक्ष यान सूर्य के इतने करीब नहीं पहुंचा है.

इस प्रोब का नाम सौर वैज्ञानिक यूजीन पार्कर के नाम पर रखा गया है, जिन्होंने 1958 में पहली बार अनुमान लगाया था कि सौर हवाएं होती हैं, ये कणों और चुंबकीय क्षेत्रों की धारा होती हैं, जो सूर्य से लगातार निकलती रहती हैं. जब ये धाराएं तेजी से निकलती हैं, तो इसके कारण धरती पर उपग्रह लिंक प्रभावित होता है.

यह भी पढ़ें: आखिरी समय में तकनीकी गड़बड़ी के कारण NASA सोलर प्रोब का लॉन्च टला

Loading...
पार्कर सोलर प्रोब सूरज के बेहद करीब से गुजरेगा, जहां से आज तक कोई अंतरिक्ष यान नहीं गुजर पाया है. इसे सूर्य के ताप और विकिरण के भयानक प्रभाव का सामना करना पड़ेगा और आखिरकार यह धरती के सबसे नजदीकी तारे के बेहद करीब के हालात के बारे में जानकारी जुटाएगा.

सबसे बड़े ऑपरेशनल लॉन्च व्हीकल का इस्तेमाल होने के अलावा डेल्टा-4 हेवी, पार्कर सोलर प्रोब सूर्य के करीब पहुंचने के लिए जरूरी तीसरे चरण के रॉकेट का उपयोग करेगा. इसमें मंगल ग्रह पर जाने में खपत होने वाली ऊर्जा की तुलना में 55 गुना ज्यादा ऊर्जा की खपत होगी.

मिशीगन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर और परियोजना वैज्ञानिकों में शामिल जस्टिन कास्पर ने इस पर कहा, ‘पार्कर सोलर प्रोब हमें इस बारे में पूर्वानुमान लगाने में बेहतर मदद करेगा कि सौर हवाओं में विचलन कब पृथ्वी को प्रभावित कर सकता है.’

इस यान को केवल साढ़े चार इंच (11.43 सेंटीमीटर) मोटी हीट रेसिसटेंट शील्ड से सुरक्षित किया गया है जो इसे सूर्य के तापमान से बचाएगी. (एजेंसियों इनपुट के साथ)
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर