लाइव टीवी

चौधरी शुगर मिल घोटाला मामले में पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ गिरफ्तार

News18Hindi
Updated: October 11, 2019, 12:42 PM IST
चौधरी शुगर मिल घोटाला मामले में पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ गिरफ्तार
नवाज शरीफ 24 दिसंबर 2018 से कोट लखपत जेल में बंद हैं.

चौधरी शुगर मिल घोटाला (Chaudhry Sugar Mills case) मामले में पाकिस्तान (Pakistan) की राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (National Accountability Bureau) पहले ही नवाज शरीफ (Nawaz Sharif) की बेटी मरियम नवाज (Maryam Nawaz) और भतीजे यूसुफ अब्बास को गिरफ्तार कर चुकी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 11, 2019, 12:42 PM IST
  • Share this:
लाहौर. पाकिस्तान (Pakistan) की राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) ने चौधरी शुगर मिल घोटाला (Chaudhry Sugar Mills case) मामले में पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (Nawaz Sharif) को गिरफ्तार कर लिया है. पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के खिलाफ पहले ही गिरफ्तारी वारंट जारी किया जा चुका था. डॉन न्यूज के मुताबिक लाहौर (Lahore) ब्यूरो की एक टीम ने कोट लखपत जेल में शुक्रवार की सुबह नवाज शरीफ से मुलाकात की थी. इसके बाद उन्हें फिजिकल रिमांड के लिए अदालत ले जाया गया था. शरीफ अल-अजीजिया मिल्स भ्रष्टाचार के मामले में पहले से जेल में सात साल की सजा काट रहे हैं.

चौधरी शुगर मिल मामले में पाकिस्तान की राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) पहले ही नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज और भतीजे यूसुफ अब्बास को गिरफ्तार कर चुकी है. इन दोनों को 23 अक्टूबर तक न्यायिक रिमांड पर रखा गया है.



एनएबी ने मुख्य रूप से मरियम पर चीनी मिलों के शेयरों की बिक्री और खरीद की आड़ में मनी लॉन्ड्रिंग में शामिल होने का आरोप लगाया है. इस तरह से शेयर की खरीद और बिक्री के बाद मरियम नवाज साल 2008 में मिलों की सबसे बड़ी शेयरधारक बन गई हैं. बताया जाता है कि मरियम के पास 1.2 करोड़ से अधिक के शेयर हैं.
Loading...

इसे भी पढ़ें :- इमरान और नवाज के बीच हो गई डील, बेटी मरियम के साथ जल्द छोड़ेंगे पाकिस्तान!

गौरलतब है कि इससे पहले भी पाकिस्तानी मीडिया में नवाज से डील की खबरें सामने आई थीं. बता दें कि पाकिस्तान में ब्लड मनी कानून है. इस कानून के तहत अगर दोषी और पीड़ित की बीच समझौता हो जाता है तो दोषी की सजा रद्द हो जाती है. इसमें दोषी पक्ष पीड़ित को डील के हिसाब से तय रकम अदा करता है. इमरान के नेता हिमायूं अख्तर ने डील के पीछे इसी कानून का हवाला दिया है. हालांकि, इमरान सरकार ने ऐसा कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया है.

इसे भी पढ़ें :-

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 12:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...