लाइव टीवी

माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई फिर से मापेंगे नेपाल और चीन

भाषा
Updated: October 15, 2019, 8:19 AM IST
माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई फिर से मापेंगे नेपाल और चीन
माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई चीन और नेपाल फिर से मापने पर सहमत हैं.

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) के नेपाल दौरे के दौरान दोनों देशों के बीच माउंट एवरेस्ट को फिर से मापने की सहमति बनी है. कई भूगर्भवैज्ञानिकों का दावा है कि 2015 में नेपाल में आए भयंकर 7.6 तीब्रता वाले भूकंप के चलते माउंट एवरेस्ट सिकुड़ गया है.

  • Share this:
काठमांडू. नेपाल और चीन  (Nepal and China) इस खबर के बीच माऊंट एवरेस्ट (Mount Everest) की ऊंचाई फिर से मापने पर राजी हो गये हैं. दरअसल ऐसा माना जा रहा है कि 2015 में नेपाल में आए भयंकर भूकंप (earthquake) बाद दुनिया की इस सबसे ऊंची चोटी की ऊंचाई संभवत: घट गयी है.

कई भूगर्भविज्ञानियों का ऐसा दावा है कि अप्रैल 2015 में 7.6 तीव्रता का भूकंप आने के बाद माउंट एवरेस्ट सिकुड़ गया है. जिसके चलते उसकी ऊंचाई घट गई है. गौरतलब है कि माउंट एवरेस्ट की आधिकारिक ऊंचाई 8848 मीटर है. वर्ष 2017 में भारत ने नेपाल को माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई फिर से मापने में मदद करने का प्रस्ताव दिया था.

नेपाल में आए भयंकर भूकंप के बाद माउंट एवरेस्ट सिकुड़ गया है.


चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग का नेपाल दौरा

इस सप्ताहांत चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की नेपाल यात्रा के दौरान यहां उनके और उनकी नेपाली समकक्ष विद्या देवी भंडारी एवं प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली के बीच वार्ता के बाद माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई संयुक्त रूप से फिर से मापने का निर्णय लिया गया.

भारत ने सबसे पहली बार 1855 में माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई घोषित की थी और उसे दुनिया की सबसे ऊंची चोटी बताया था. सर जार्ज ने भारत के महासर्वेक्षक के रूप में इस काम में अगुवाई की थी. 1956 में एक बार फिर भारत ने मापने का काम किया और माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई घोषित की.

ये भी पढ़ें: 
Loading...

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल ने पुलिस से कहा, बड़े नेताओं से डरने की जरूरत नहीं

कश्मीरी सेब जल्द पहुंचेंगे आजादपुर मंड़ी, घाटी से लदने लगे हैं ट्रक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 15, 2019, 8:18 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...