छह महीने से बंद नेपाल-चीन बॉर्डर खुला, दोनों देश के बीच व्यापार शुरू

छह महीने से बंद नेपाल-चीन बॉर्डर खुला, दोनों देश के बीच व्यापार शुरू
नेपाल चीन व्यापार मार्ग छह महीने बाद खोल दिया गया है (File Phot)

नेपाली अधिकारियों के अनुसार नेपाल ने सोमवार को चीन के साथ अपने प्रमुख सीमा व्यापार मार्गों (Border Trade Route) में से एक को छह महीने बाद फिर से खोल दिया है.

  • Share this:
काठमांडू. नेपाली अधिकारियों के अनुसार नेपाल ने सोमवार को चीन के साथ अपने प्रमुख सीमा व्यापार मार्गों (Border Trade Rote) में से एक को छह महीने बाद फिर से खोल दिया है. नेपाल और चीन (Nepal And China) के बीच अंतरराष्ट्रीय व्यापार के लिए दो मुख्य बॉर्डर पॉइंट में से एक रासुवागाढी-केरुंग बॉर्डर पॉइंट (Rasuwagarhi-Kerung Border Point) है. एक अन्य बॉर्डर पॉइंट तातोपाणि-झांगमू है जिसे दो महीने से अधिक समय बंद रखने के बाद मार्च के अंत में फिर से खोला गया है. फिलहाल दोनों देशों के बीच एकतरफा माल परिवहन को फिर से शुरू किया गया है. अधिकारियों ने कहा कि सोमवार से तिब्बत के केरूंग में फंसा सामान बॉर्डर पॉइंट से नेपाल में आना शुरू हो गया है.

इंसानों के आवाजाही पर अभी भी होगी रोक

चीन से आने वाले सामान को नेपाल में लाने के लिए रासुवागढ़ी को खोला गया है. फिलहाल इस बॉर्डर पॉइंट पर इंसानों की आवाजाही शुरू नहीं हुई है. अधिकारियों ने बताया कि जल्द ही दोनों तरफ से आम लोगों की आवाजाही और सामान का आवागमन शुरू हो जाएगा और चीन से हर दिन कुल 120 टन माल नेपाल पहुंचाया जाएगा.



जरूरी सामान लाने और ले जाने के लिए खोला गया मार्ग
माय रिपब्लिका (MyRepublica) अखबार की एक रिपोर्ट के अनुसार रसूवा सीमा शुल्क कार्यालय के प्रमुख पुण्य बिक्रम खड़का ने कहा कि शुरुआत में चार ट्रकों को चलाने की अनुमति दी जाएगी और धीरे धीरे ट्रकों की संख्या में वृद्धि होगी. रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि चीन से आयातित सामानों में फल, रेडीमेड सामान, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, टेलीकॉम और जल विद्युत परियोजनाओं के लिए आवश्यक उपकरण प्रमुख हैं.

कोविड-19 के कारण बॉर्डर पॉइंट जनवरी से ही बंद रहे थे. नेपाल के स्वास्थ्य और जनसंख्या मंत्रालय के अनुसार नेपाल में रविवार को 293 नए कोरोनोवायरस मामले दर्ज किये गए और इस तरह नेपाल में कोरोना के कुल मामलों की संख्या 15,784 हो गई है. अब तक कोरोना से देश में 32 लोगों की मौत हो चुकी है.

ये भी पढ़ें: समुद्र को प्लास्टिक कचरे से मुक्त करने में जुटीं सगी बहनें, कहा- यह बहुत बड़ा संकट

COVID-19 के बारे में डोनाल्ड ट्रंप ने किए ये दावे, जानें इनकी असलियत

नेपाल ने 15 ड्राइवरों और 15 मजदूरों का विवरण प्रस्तुत किया है जो माल को नेपाल लेकर आएंगे. सामान लाने की इस प्रक्रिया में सभी मजदूर अपने निर्धारित स्थानों पर रहकर काम करेंगे और इस प्रक्रिया में किसी से सीधे संपर्क नहीं करेंगे. चीनी पक्ष उधर से सामान लाएगा और उन्हें उतार देगा और नेपाली पक्ष नेपाल पहुंचने तक शेष कार्यों का ध्यान रखेगा. रासुवागढ़ी बॉर्डरपॉइंट जो 2015 से अधिकाधिक तौर पर इस्तेमाल में लाया जा रहा है. ल लाने के लिए 250 से अधिक वाहनों का पंजीकरण किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading