लाइव टीवी

नेपाल की अदालत ने भारत में रजिस्टर्ड तीपहिया वाहनों पर लगाई रोक

News18Hindi
Updated: November 25, 2019, 8:05 AM IST
नेपाल की अदालत ने भारत में रजिस्टर्ड तीपहिया वाहनों पर लगाई रोक
नेपाल में, भारत में पंजीकृत तीन पहिया वाहनों के चलने पर रोक (फोटो-प्रतीकात्मक)

नेपाल (Nepal) की अदालत ने आदेश दिये के रौताहाट जिले (Rautahat District) में भारत में पंजीकृत तीन पहिया वाहनों को चलने से रोका जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 25, 2019, 8:05 AM IST
  • Share this:
काठमांडू. नेपाल (Nepal) की एक कोर्ट ने भारत में रजिस्टर्ड तीन पहियां वाहन (Three wheelers) पर रोक लगाते हुए एक आदेश जारी किया है. कोर्ट ने रविवार को स्थानीय अधिकारियों को आदेश दिया कि दक्षिण नेपाल के रौताहाट जिले (Rautahat District) में भारत में पंजीकृत तीन पहिया वाहनों को चलने से रोका जाए. यह स्थान भारत की सीमा से सटा हुआ है.

कोर्ट ने बताया कानून के खिलाफ
जनकपुर हाई कोर्ट ने आदेश दिया कि भारत में पंजीकृत वाहन पिछले कुछ वर्षों से सीमा के आर-पार यात्री लेकर चलते हैं जो कानून के खिलाफ है और देश के कानून के मुताबिक सीमा शुल्क भी नहीं देते हैं. एक स्थानीय परिवहन व्यवसायी की याचिका पर अदालत ने यह निर्देश दिए. याचिका में उसने क्षेत्र में भारतीय वाहनों के चलने का विरोध किया था.

आदेश लागू करने के लिए बना रहे योजना

अधिकारियों ने कहा कि वे इस योजना पर काम कर रहे हैं कि किस तरह से अदालत के आदेश को लागू करना है. भारत और नेपाल के रिश्ते हमेशा से ही अच्छे रहे हैं, जिन्हें देखते हुए इस आदेश का पालन करना है.

नेपाल में हो रहा प्रदर्शन
जब से भारत का नया मानचित्र जारी हुआ है तब से नेपाल में भारत विरोधी प्रदर्शन रुकने का नाम नहीं ले रहा है. रविवार को रुपंदेही जिला के नेपाल आदिवासी जनजाति महासंघ के नेतृत्व में कार्यकर्ता ने भैरहवां से जुलूस निकाला और सोनौली सीमा के निकट भैरहवा कस्टम बैरियर पर पहुंचे. जहां भारत के खिलाफ भारत विस्तारवाद मुर्दाबाद, भारत वापस जाओ जैसे नारे लगाते हुए प्रदर्शन किये गये. (भाषा इनपुट के साथ)ये भी पढ़ें : पाक ने माना हो रहा है अल्पसंख्यकों का जबरन धर्मांतरण, रोकने के लिए बनाई समिति

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 25, 2019, 8:05 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर