नेपाल में सरकार बनाने की कोशिशें तेज, राष्ट्रपति ने दूसरे दलों को दिया तीन दिन का वक्त

के.पी. शर्मा ओली. (रॉयटर्स फाइल फोटो)

के.पी. शर्मा ओली. (रॉयटर्स फाइल फोटो)

Nepal Political Crisis: प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली की ओर से पेश विश्वास प्रस्ताव के समर्थन में केवल 93 मत मिले थे, जबकि 124 सदस्यों ने इसके खिलाफ मत दिया.

  • Share this:

काठमांडू. प्रधानमंत्री के. पी. शर्मा ओली की सरकार के विश्वास मत हासिल नहीं कर पाने के बाद नेपाल की राष्ट्रपति विद्यादेवी भंडारी ने नई सरकार बनाने की खातिर बहुमत साबित करने के लिए विभिन्न दलों को बृहस्पतिवार तक का वक्त दिया है.

राष्ट्रपति कार्यालय की ओर से सोमवार को जारी एक वक्तव्य में कहा गया कि नेपाल के संविधान के अनुच्छेद 76 (2) के तहत राष्ट्रपति ने बहुमत की सरकार का गठन करने के लिए विभिन्न दलों को आमंत्रित करने का फैसला लिया है. हिमालयन टाइम्स की खबर के मुताबिक, भंडारी ने सियासी दलों को तीन दिन का वक्त दिया है और कहा है कि वे बृहस्पतिवार की रात नौ बजे तक अपना दावा पेश करें.

उल्लेखनीय है कि राष्ट्रपति विद्यादेवी भंडारी के निर्देश पर संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा के आहूत विशेष सत्र में प्रधानमंत्री ओली की ओर से पेश विश्वास प्रस्ताव के समर्थन में केवल 93 मत मिले थे, जबकि 124 सदस्यों ने इसके खिलाफ मत दिया. विश्वास प्रस्ताव के दौरान कुल 232 सदस्यों ने मतदान किया जिनमें से 15 सदस्य तटस्थ रहे.

ओली को 275 सदस्यीय प्रतिनिधि सभा में विश्वासमत जीतने के लिए 136 मतों की जरूरत थी क्योंकि चार सदस्य इस समय निलंबित हैं. नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी केंद्र) के पुष्पकमल दहल की अगुवाई वाले गुट ने 69 वर्षीय ओली के नेतृत्व वाली सरकार से कुछ ही दिन पहले समर्थन वापस लिया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज