नेपाल की सीपीएन सरकार में बढ़ा टकराव, PM केपी शर्मा ओली ने बुलाई संसदीय दल की बैठक

नेपाल के कार्यवाहक प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली. (ANI File)

नेपाल के कार्यवाहक प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली. (ANI File)

Nepal Political Crisis: प्रधानमंत्री ओली की अगुवाई वाले 27 सदस्यीय संसदीय बोर्ड में पार्टी के विरोधी धड़े के नेता माधव कुमार नेपाल और झाला नाथ खनल शामिल हैं.

  • Share this:

काठमांडू. नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली की अगुवाई वाली सत्तारूढ़ सीपीएन-यूएमएल की बृहस्पतिवार को संसदीय दल की बैठक में 24 सदस्यीय संसदीय बोर्ड और तीन सदस्यीय वैधानिक संशोधन कार्यबल का गठन किया गया. विरोधी धड़े के नेताओं ने इस बैठक का बहिष्कार किया. मीडिया ने यह खबर दी है. बालूवतार में प्रधानमंत्री के सरकारी आवास पर हुई बैठक में पार्टी अध्यक्ष ओली के 100 से अधिक सांसदों ने हिस्सा लिया.



माई रिपब्लिका की खबर के अनुसार प्रधानमंत्री ओली की अगुवाई वाले 27 सदस्यीय संसदीय बोर्ड में पार्टी के विरोधी धड़े के नेता माधव कुमार नेपाल और झाला नाथ खनल शामिल हैं. खबर के अनुसार तीन और सदस्य जोड़े जाने के बाद यह बोर्ड पूर्ण आकार ले लेगा. इस बैठक में हिस्सा लेने वाले सांसद पदम गिरि ने कहा कि पार्टी के विधान को बदलने के लिए तीन सदस्यीय कार्यबल गठित करने का भी फैसला किया गया.



इस कार्यबल में पार्टी के मुख्य सचेतक बिशाल भट्टराई, बिमला राय पौडेल और शेर बहादुर तमांग शामिल हैं. ओली धड़े की सांसद नीरू देवी पाल ने कहा, ‘‘प्रतिनिधि सभा के 100 से अधिक सदस्यों ने आज बैठक में हिस्सा लिया." यूएमएल (यूनीफाईड मार्क्सिस्ट लेनिनिस्ट) के सांसद शेर बहादुर तमांग ने बताया कि संसदीय दल की अगली बैठक 20 मार्च को होगी और नेपाल खनल गुट के करीब सभी सांसद अगली बैठक में हिस्सा लेंगे. जब उनसे पूछा गया कि क्या पार्टी उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है जो बैठक में नहीं पहुंचे तब उन्होंने कहा कि ऐसी कोई चर्चा बैठक में नहीं हुई.



संसदीय दल की बैठक प्रधानमंत्री ने ऐसे वक्त बुलाई है जब नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (यूएमएल) में नेपाल और खनल का विरोधी धड़ा बुधवार और बृहस्पतिवार को पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं की दो दिवसीय राष्ट्रीय बैठक की दिशा में बढ़ चला है. माई रिपब्लिका के अनुसार लेकिन पार्टी में बढ़ती गुटबाजी के बीच पार्टी के विरेाधी धड़े ने संसदीय दल की बैठक का बहिष्कार करने का निर्णय लिया.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज